केंद्र सरकार ने बताया है कि हरियाणा (Haryana), असम (Assam) और राजस्थान (Rajasthan) शीर्ष तीन राज्यों में शामिल हैं, जिन्होंने कोविड-19 वैक्सीन (Corona Vaccine) सबसे ज्यादा बर्बाद किये हैं।  

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्यों को वैक्सीन की बर्बादी रोकनी चाहिए।  हरियाणा में वैक्सीन बर्बादी की दर 6.49 फीसदी है जो सबसे ज्यादा है।  इसके बाद असम में 5.92 फीसदी वैक्सीन बर्बाद हुए हैं. राजस्थान में वैक्सीन की बर्बादी 5.68 फीसदी हुई है। 

मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक मेघालय में 5.67 फीसदी, बिहार में 5.20 फीसदी, मणिपुर में 5.19 फीसदी, पंजाब में 4.94 फीसदी, दादरा और नगर हवेली में 4.5 फीसदी, तमिलनाडु में 4.13 फीसदी और नागालैंड में 3.36 फीसदी वैक्सीन की बर्बादी दर्ज की गयी है।  मंत्रालन ने बताया कि देश के विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में अब तक करीब 18 करोड़ वैक्सीन का डोज इस्तेमाल किया गया है। 

मंत्रालय ने बताया कि केंद्र ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को अब तक 18 करोड़ से अधिक 18,00,03,160 खुराक नि:शुल्क उपलब्ध करायी गयी है।  जिनमें से 17,09,71,429 करोड़ खुराकों की खपत हो चुकी है। राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के पास अब भी 90,31,691 डोज अब भी हैं।  आने वाले तीन दिनों में राज्यों को 7,29,610 खुराक और उपलब्ध करायी जायेगी। 

केंद्र सरकार के डेटा के मुताबिक महाराष्ट्र को सबसे ज्यादा 1,82,52,450 वैक्सीन के डोज दिये गये है।  वहीं उत्तर प्रदेश को 1,51,31,270 डोज उपलब्ध कराये गये हैं।  इसी प्रकार गुजरात को 1,48,70,490; राजस्थान को 1,47,37,360; पश्चिम बंगाल को 1,20,83,340; कर्नाटक को 1,09,28,270; मध्य प्रदेश को 94,79,720; बिहार को 87,65,820; केरल को 78,97,790 और तमिलनाडु को 76,43,010 वैक्सीन की खुराकें दी गयी हैं। 

मंत्रालय की ओर से बताया गया कि 45 साल के ऊपर के 13.22 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगायी गयी है।  इनमें से 10.93 करोड़ लोगों ने पहली डोज ली है, जबकि 2.29 करोड़ लोगों ने दूसरी डोज ले ली है।  कुल 1.61 करोड़ हेल्थ केयर वर्कर्स को वैक्सीन लगी है।  इनमें से 0.96 करोड़ लोगों ने पहली और 0.65 करोड़ लोगों ने दूसरी डोज ली है। 

इसी प्रकार 2.19 करोड़ फ्रंट लाइन वर्कर्स ने वैक्सीन लगवायी है।  इनमें से 1.41 करोड़ लोगों ने पहली डोज ली है और 0.78 करोड़ लोगों को दूसरी डोज भी लगायी जा चुकी है।  18 से 44 साल के 25.59 करोड़ लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लगायी जा चुकी है।  कुल 13.55 करोड़ लोगों ने वैक्सीन की पहली डोज ली है, जबकि 3.72 करोड़ लोगों को दूसरी डोज दी जा चुकी है।  इस प्रकार 17.27 करोड़ वैक्सीन के डोज लगाये जा चुके हैं।