प्रदूषण आज शहर की मुख्य समस्या बन गई है। इससे बचने के लिए लोग तरह-तरह के उपाय कर रहे हैं। कोई मास्क लगा रहा है तो कोई एयर प्यूरीफायर खरीद रहा है। वहीं अपार्टमेंट या फ्लैटों में रहने वाले प्रदूषण से बचने को इंडोर पौधे लगा रहे हैं। लोग ‘स्नैक और ‘स्पाइडर नाम के पौधे घरों में लगाने लगे हैं। अचानक इनकी मांग बढ़ गई है। दरअसल ये खास किस्म के पौधे हैं। इनके बारे में प्रचलित है कि ये हवा को शुद्ध करते हैं।

ये पौधे सांप और मकड़ी की तरह दिखते हैं। बोरिंग रोड के रहने वाले मृगांक श्रीवास्तव कहते हैं कि प्रदूषण के कारण घर के अंदर की हवा भी गंदी हो गयी है। फिर नर्सरी वालों ने स्नैक और स्पाइडर लगाने का सुझाव दिया पटना में प्रदूषण के बढ़ते स्तर से वैसे पौधों की मांग बढ़ा है जो हवा को तेजी से शुद्ध करते हैं। लोग नर्सरियों में स्नैक और स्पाइडर खोज रहे हैं। त्रिशुल नर्सरी के संतोष ने बताया कि दीपावली के बाद इंडोर में प्रदूषण सोखने वाले पौधों की डिमांड बढ़ गयी है।


स्नैक और स्पाइडर के अलावा एडेनियम, क्रशुला, जेड प्लांट और मनीप्लांट की मांग बढ़ गयी है। वहीं, आयुक्त कार्यालय के पास नर्सरी के अनवर अली ने कहा कि पौधे बाहर से मंगाते हैं। हर तीन दिन में स्पाइडर का स्टॉक खत्म हो जा रहा है। इसकी खासियत है कि यह बारहों मास हरी रहती है। कई बार केऊरा को ही लोग स्पाइडर समझ लेते हैं पर ये उससे भिन्न होता है। इन सभी पौधों की कीमत 80 रुपये से शुरू होती है और बोनसाई और वर्मी कल्चर वाले पौधों की कीमत 250 रुपये है।

 

घर के अंदर शुद्ध हवा प्राप्त करने के उद्देश्य से लोग इन पौधों को गमले में लगाकर ड्राइंग रूम, बेडरूम या किचेन में रख रहे हैं। ये पौधे ज्यादा बड़े नहीं होते, इन्हें अधिक देखभाल की भी जरूरत नहीं होती। इन खूबियों ने लोगों को इनका मुरीद बना दिया है। इन पौधे की खासियत है कि यह नाइट्रोजन आक्साइड और प्रदूषित हवा को अपने अंदर खींच लेता है, जिससे आपको शुद्ध हवा मिलती है। इसके अलावा ये रात में ऑक्सीजन बाहर फेंकता है। इन पौधों की हवा शुद्ध करने के गुणों से विशेषज्ञ भी इत्तेफाक रखते हैं।
 


स्नैक में गुण होता है कि वह नाइट्रोजन ऑक्साइड को सोखता है। वहीं यह रात को भी ऑक्सीजन देता है। वहीं स्पाइडर की विशेषता है कि यह वायु को हानिकारक गैस जाइलिन और टोल्यूनी से मुक्त रखता है। स्नैक और स्पाइडर पौधे दिन और रात दोनों समय ऑक्सीजन देते हैं। ये पौधे के कैम ग्रुप से आते हैं, जिनकी खासियत होती है कि यह आम पौधों की तुलना में ज्यादा ऑक्सीजन भी देते हैं। ऐसे पौधे घर के अंदर के लिए उपयुक्त हैं। इससे रूम में ऑक्सीजन का आउटपुट बढ़ जाता है।