अरुणाचल प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी ( भाजपा) की सरकार चल रही है, लेकिन प्रदेश  भाजपा अध्यक्ष तापीर गावो गंदी राजनीति की आड़ में अपनी ही पार्टी की सरकार को अस्थिर करने में लग गया है । जिसके करण पेमा खांडू की  सरकार कब गिर जाए कहना मुश्किल है। 

अरुणाचल जस्टिस फोरम के अध्यक्ष नवम तागम तथा  सीएमसी की पूर्व प्रदेश अध्यक्ष तोको शितल ने संयुक्त रूप से यह आरोप लगाया । दोनों ने मीडिया के सामने अरुणाचल प्रदेश के अध्यक्ष तापीर पर सीधा हमला करते हुए कहा कि प्रदेश अध्यक्ष बनते ही तापीर ने अपने पद का दुरुपयोग किया है और केंद्र सरकार की और से भेजे गए पैसों को अपनी संपति बनाने में इस्तेमाल किया है। 

तागम ने कहा कि अरुणाचल के मुख्यमंत्री पेमा खांडू के खिलाफ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष पहले से ही साजिश कर रहा है और उसकी जगह पीपीए के करोड़पति विधायक टकम पारियों को मुख्यमंत्री बनाने का षड्यंत्र रच रहा है । इसके एवज में तापीर ने पीपीए के विधायक से 60 करोड़  रुपए का सौदा किया था, लेकिन उसने दो करोड़ रुपए ही दे सका , जिसके कारण बात नहीं बनी । 

उन्होंने आरोप लगाया कि पेमा खांडू की सरकार अस्थिर करने के लिए पिछले कई महीनों से विधायकों की खरीद-फरोख्त करने में लगा हुआ है । इससे लगता है कि एक बार फिर पैसों के दम पर मुख्यमंत्री को उनके पद से बर्खास्त करवाना चाहता है, क्योंकि वहां के विधायकपैसों  के लिए किस दल में शामिल हो जाए, कहना मुश्किल है । 

उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों के कारण ही पूर्व मुख्यमंत्री कालिख पुल आत्महत्या करने को मजबूर हो गए थे, जिसकी भरपाई कभी नहीं की जा सकती है । उन्होंने तथ्यों को मीडिया से साझा करते हुए कहा कि तापीर गावो प्रदेश अध्यक्ष बनते ही सरकारी जमीन और सरकारी कार्यालय को कब्ज़ा कर बड़ी -बड़ी  इमारते बनाने लगा । यहां तक कि अपने एजेंट के जरिए गुवाहाटी में करोड़ो रुपए रियल इस्टेट में लगाया है । 

वहीं दूसरी ओर पुराने भाजपा नेताओं को हटाका कांग्रेसी नेताओं को विधानसभा व लोकसभा चुनाव में टिकट देने का आश्वासन दे रहा है और बदले में मोरी रकम ले रहा है । तागम व शितल ने कहा कि तापीर जैसे भ्रष्ट नेता के खिलाफ आज से हमारी जंग शुरू हो गई है। 

इस मुद्दे को भाजपा के राष्टीय अध्यक्ष अमित शाह, प्रधानमंत्री मोदी के अलावा कोर्ट में उठाएगा । उन्होंने आशंका व्यक्त करते हुए कहा कि अगर समय रहते इसे नहीं रोका गया तो एक बार फिर से वहां ताजनीतिक संकट पैदा हो जाएगा।