अगर आप पैसे बचत करना चाहते हैं और अपनी बच्ची के भविष्य के लिए कुछ पैसे जमा करना चाहते हैं।  तो सुकन्या समृद्धि योजना सबसे ज्यादा फायदेमंद है यह योजना सबसे ज्यादा रिटर्न देने वाली योजना में सबसे ऊपर है।  अगर आप बचत करना चाहते हैं तो 10 साल की बच्ची का अकाउंट किसी भी पोस्ट ऑफिस या कमर्शियल बैंक में खुलवाया सकते हैं। 

आयकर में मिलती है छूट 

इस योजना के तहत ना सिर्फ बचत बल्कि आयकर में भी छूट देती है. आय कर अधिनियम 1961 की धारा 80 सी के तहत सुकन्या योजना में निवेश पर तिगुणा छूट का लाभ देती है इतना ही नहीं निवेश की गयी राशि, ब्याज के रूप में अर्जित आय और निकाली गयी राशि पर भी कोई कर नहीं लगता है। 

आप उन बैंकों में जहां पब्लिक प्रोविडेंट फंड ( पीपीएफ) अकाउंट खोलने की सुविधा है सुकन्या समृद्धि योजना का अकाउंट खोल सकते हैं।  अगर ताजा ब्याजा दर की बात करें तो अभी इस योजना के तहत आपको 7.6 फीसद का ब्याज दर मिल रहा है। 

14 साल ही निवेश करना होता है

सुकन्या योजना के तहत यह पैसा बच्ची के 21 साल पूरा होने पर म्चोयर हो जाता है, अभिभावक को इसमें 14 साल ही निवेश करना होता है।  इस योजना के तहत आप जितना भी निवेश करेंगे मेच्योरिटी पर रिटर्न 3 गुना मिलेगा।  इस योजना के तहत अगर हम मौजूदा ब्याज दर को ध्यान में रखते हुए हिसाब लगायें तो इससे लगभग 64 लाख रुपये तक की भारी भरकम रकम जुटायी जा सकती है। 

सुकन्या समृद्धि योजना पर ब्याज दर इस वक्त 7.6 फीसद है।  अगर हर महीने के हिसाब से आप महीने 12,500 रुपये के हिसाब से एसएसवाई अकाउंट में निवेश करते हैं तो साल में आप 1.5 लाख रुपये का निवेश होगा।  सुकन्या खाते में 14 साल में 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग ब्याज के हिसाब से यह रकम 37,98,225 रुपये हो जाएगी।  इसके बाद 7 साल तक इस रकम पर 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से रिटर्न मिलता रहेगा। 

मैच्योरिटी पर कितनी मिलेगी रकम

जब आपकी बच्ची की उम्र 21 साल होती है, तो करीब 63,42,589 रुपये होगी।  इससे साफ है कि 21 लाख रुपये का आपका निवेश मैच्योरिटी पर 63.5 लाख रुपये हो जाता है।  आपको 42.5 लाख रुपये ब्याज के रूप में मिलता है जो आपकी बच्ची के भविष्य को उसकी पढ़ाई और शादी के खर्च को भी आसानी से उठा सकता है।