दो दिन पहले शिलॉन्ग दौरे के दौरान अखिल भारतीय कांग्रेेस समिति के प्रवक्ता वअसम के सांसद गौरव गोगोई ने नेशनल पीपुल्स पार्टी की अगुवाई वाली मेघालय डेमोक्रेटिक एलांयस सरकार की मौजूदा नीति की कड़ी आलोचना की थी।

इस पर प्रदेश के मुख्यमंत्री कोनराड के संगमा ने कहा कि उनकी सरकार की आलोचना करने के बजाय सांसद गोगोई यहां पर गत छह महीने के भीतर जनहित में किए कार्यों की समीक्षा करें। कोनराड ने गोगोई के बयान को कांग्रेस की निराशा बताया। उन्होंने कहा कि राज्य में जबसे एमडीए सरकार आई है, एक पर एक विकास कार्य हुए हैं। कांग्रेस राज्य की जनता के लिए जो विकास कार्य कर नहीं पाई अब मौजूदा सरकार ने इसकी शुरूआत की है।

मुख्यमंत्री का कहना था कि यदि कांग्रेस तथ्यों के आधार पर आरोप लगाए तो ध्यान दिया भी दिया जा सकता है, लेकिन इन दिनों कांग्रेस सिर्फ मनगढ़ंत बातों को तवज्जों दें लोगों को गुमराह करने वाली बातों पर ज्यादा ध्यान दे रही है।

कोनराड ने आगे कहा कि प्रदेश की जनता विकास चाहती है जो उन्होंने शुरू कर दी है। कांग्रेस द्वारा लंबित योजनाओं को पूर्ण करने की बीड़ा अब एमडीए सरकार कर रही है। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना व प्रधानमंत्री आवास योजना राज्य में धीमी गति से चल रही थी। सड़क कनेक्टविटी का काम भी लटका हुआ था। गोगोई को इस पर ध्यान आकर्षित करना चाहिए कि केंद्र में यूपीए सरकार और राज्य में मुकुल संगमा सरकार रहते समय कितना काम हुआ था।

वही पत्रकारों के सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि गठबंधन की सरकार को चलाना कभी भी आसान नहीं होता। हमेशा चुनौती भरा होता है। एमडीए गठबंधन सरकार में एनपीपी, यूडीपी, पीडीएफ, भाजपा, एचएसपीडीपी, एनसीपी और दो निर्दलीय विधायक शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि गठबंधन में शामिल सभी सहयोगी सरकार की विभिन्न नीतियों को समझते हैं औऱ वे बहुत ही सहयोग की भूमिका में रहते हैं। 

जब उनसे पूछा गया कि सहयोगियों को काॅमन मिनिमम कार्यक्रम के साथ आने में काफी समय क्यों लगा रहा, तो मुख्यमंत्री ने कहा कि मसौदे को सहयोगियों के बीच प्रसारित किया गया है और एक समिति गठन की गई है। उन्होंने मसौदे को अंतिम रुप देने में देरी होने के वजहों के बारे में कहा कि एमडीए सरकार गठन के बाद चार उप-चुनाव हुए है। इस बीच बजट सत्र भी गया। यहीं नहीं कानून व्यवस्था भी एक बड़ी वजह रही। चूंकि इस बीच एमडीए सरकार ने अपने छह महीने का कार्यालाय पूरा कर ली है।

कोनराड ने कहा कि वह विभिन्न योजनाओं के कार्यान्वयन की निगरानी पर ध्यान केंद्रित करेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि उनके कैबिनेट सहयोगी सरकारी कार्यक्रमों की समीक्षा कर क्षेत्रों में नियमित दौरे जारी रखे।

उन्होंने वित्तीय समस्याओं और लंबित योजनाओं के रुप में चुनौतियों का सामना करने वाली नई सरकार से इन्कार नहीं किया, लेकिन आश्वासन दिया कि वे काम करने के लिए सही मूड में हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले महीने काफी महत्वपूर्ण होगा, क्योंकि उनकी सरकार प्राथमिक क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित कर रही है और नीतियां तैयार कर रही है।

ज्ञात हो कि मुख्यमंत्री ने जब विधायक पद की शपथ लेने पुलिस बाजार स्थित ओल्ड सचिवालय पहुंचे थे तो इस दौरान एमडीए की सहयोगी क्षेत्रीय दल यूडीपी सहित अधिकांश पार्टियों के विधायक और कैबिनेट मंत्री मौजूद थे

। एनपीपी ने यह दिखाने की भी कोशिश की कि एमडीए गठबंधन मजबूती के साथ खड़ी है। कांग्रेस कितने भी बाते कह ले, लेकिन इसका असर सरकार पर पड़ता नहीं दिख रहा है।