चंडीगढ़ शहर शिवालिक पहाड़ियों से घिरी सुरम्य घाटी में स्थित है। यहां की एक अनूठी हकीकत यह है कि चंडीगढ़ भारत के दो उत्तरी राज्यों- पंजाब और हरियाणा, की राजधानी है जरूर, लेकिन इनमें से किसी भी राज्य में शामिल नहीं है। यह एक केंद्रशासित प्रदेश है, सीधे भारत सरकार के प्रशासन में है।

चंडीगढ़ नाम शक्ति की देवी श्री चंडिका से आया है, जिसका मंदिर शहर के उत्तर-पूर्व इलाके में स्थित है। यह शहर आधुनिक वास्तुकला के इतिहास की भव्य सफलता की कहानी है। अल्बर्ट मेयर और मैथ्यू नोविकी को शुरुआत में इस शहर के नियोजन की जिम्मेदारी दी गई थी। लेकिन उनकी प्लेन क्रैश में मौत के बाद, फ्रेंच वास्तुविज्ञ ली कोर्बुजर के पास यह जिम्मेदारी गई। उन्होंने शहर की योजना बनाने का काम बेहतरीन तरीके से किया।

यह एशिया और दुनिया के सबसे खूबसूरत और सुविधाजनक शहरो में से एक है, इसी वजह से इसे 'द सिटी ब्यूटीफुल' भी कहा जाता है। पूरी दुनिया से लोग यहां आते हैं और रेगिस्तान में मनुष्य क्या तैयार कर सकता है, इसका साक्षी बनकर वास्तुकला के आश्चर्यों को देखते हैं।

कैसे पहुंचें

यह खूबसूरत शहर दो महत्वपूर्ण राज्यों, पंजाब और हरियाणा की राजधानी के तौर पर सेवाएं देता है। हर दिन, देश के अन्य हिस्सों से लोग चंडीगढ़ पहुंचते हैं। यह भारत के महत्वपूर्ण व्यवसायिक शहरों में से एक है। इसकी वजह से प्राकृतिक रूप से शहर से देशभर का ताकतवर संपर्क नेटवर्क स्थापित हुआ है।

हवाई, सड़क और रेल नेटवर्क के जरिए यह पूरे देश से जुड़ा हुआ है। चंडीगढ़ में एक अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट है, जो शहर के बीच से महज 11 किलोमीटर दूर स्थित है। इंडियन एयरलाइंस चंडीगढ़ को मुंबई, दिल्ली, जम्मू और अमृतसर जैसे देश के अन्य शहरों से जोड़ती है।

चंडीगढ़ शहर तक रेल नेटवर्क भी अच्छा है। चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन शहर के मुख्य केंद्र से 8 किलोमीटर दूर है। शताब्दी एक्सप्रेस और हिमालयन क्वीन जैसी महत्वपूर्ण ट्रेनें चंडीगढ़ को देश के अन्य शहरों से नियमित जोड़ती है।

वहीं सड़क मार्ग की बात करें तो शहर तक पहुंचने का सड़क नेटवर्क भी बहुत अच्छा है। उत्तर भारत के कई शहरों से आसानी से अपने वाहन से चंडीगढ़ पहुंचा जा सकता है। राष्ट्रीय राजमार्ग 21 और राष्ट्रीय राजमार्ग 22 शहर से होकर गुजरते हैं और शहर को देश के प्रमुख शहरों और राज्यों से जोड़ते हैं। बेहतरीन सड़क और उसके दोनों ओर सांस रोक देने वाले नजारे सड़क यात्रा को यादगार बना देते हैं।

चंडीगढ़ में बड़ी संख्या में बड़े पर्यटन केंद्र है। इस शहर को फ्रेंच आर्किटेक्ट ली कोर्बुजर ने डिजाइन किया था। देश के कोने-कोने से पर्यटक हर साल इन प्लान्ड शहर जाते हैं। चंडीगढ़ पर्यटन आपकी मदद कर सकता है ताकि आप अपनी छुट्टियों को और भी मजेदार और आनंददायक बिता सके। चंडीगढ़ जाने के लिए सबसे अच्छा मौसम है- अगस्त से नवंबर तक शरद ऋतु। इस समय यहां का तापमान न तो बहुत ज्यादा गर्म होता है और न ही ठंडा।

चंडीगढ़ आजादी के बाद भारत में विकसित हुए आधुनिक और सबसे युवा शहरों में से एक है। चंडीगढ़ में पर्यटन का आकर्षण प्राचीन ऐतिहासिक स्मारक नहीं है। चंडीगढ़ में अद्भुत वास्तुकला और मनोरम दृश्य देखे जा सकते हैं, जो निश्चित तौर पर आंखों को सुकून देते हैं। आधुनिक वास्तुकला की विद्वता ने चंडीगढ़ में कुछ पर्यटन आकर्षण बनाए हैं।

चंडीगढ़ शिवालिक रेंज की पहाड़ियों के नीचे बसा है। हरे मैदान और पेड़ों की कतारों के बीच में बने मुख्य मार्ग के साथ ही साफ-सुथऱी सीधी रेखाओं में बने रिहायशी मकान मनोरम दृश्य पैदा करते हैं।

चंडीगढ़ में आप सरकारी संग्रहालय और आर्ट गैलरी, शांति कुंज, फन सिटी, गार्डन ऑफ फ्रेगरेंस, इंटरनेशनल डॉल्स म्युजियम, चोखी ढाणी, सुखना लेक, नेकचंद का रॉक गार्डन, चंडीगढ़ का रोज गार्डन, बटरफ्लाई पार्क, लेजर वैली इत्यादि जगहों पर घूम सकते हैं।