कोरोना महामारी को देखते हुए 7 महिनों से स्कूल, कॉलेज-विश्वविद्यालय बंद पड़े हैं। जिससे बच्चों को पढ़ाई का भारी नुकसान उठाना पड़ गया है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए अब केंद्र सरकार ने 15 अक्टूबर से पुन: खोलने की मंजूरी दे दी है। जिससे की बच्चे फिर से अपनी पढ़ाई में ध्यान लगाकर पढ़ाई करें। कोरोना काल ने पूरे साल को ही समर विकेशन बना दिया है। 15 अक्टूबर से फिर से स्कूल जाना और कॉलेज जाने शुरू हो जाएगा।


कई राज्यों ने इस बात सहमती जताते हुए अभी से ही स्कूल और कॉलेज की साफ सफाई करना शूरू करवा दिया है। लेकिन कुछ राज्य इस महीने स्कूल खोलने के मूड में नहीं दिख रहे हैं। पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, समेत कई राज्य दीपावली के बाद ही स्कूल खोलने के बारे में सोचना चाहते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि दीपावली इस साल 14 नवंबर को पड़ रही है। शिक्षण संस्थानों को पुन: खोलने का अंतिम निर्णय राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों पर निर्भर है।


दिल्ली सरकार ने स्कूलों को 31 अक्टूबर तक बंद ही रखने का फैसला किया है। कर्नाटक सरकार को स्कूलों को पुन: खोलने की कोई जल्दी नहीं है। छत्तीसगढ़ सरकार को अगले आदेश का इंतजार है। महाराष्ट्र सरकार दीपावली के बाद कोई फैसला लेंगी। गुजरात सरकार भी दीपावली के बाद स्कूल फिर से खोलने पर विचार करेंगी। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि त्यौहार निकलने दो पहले।


दूसरी ओर हरियाणा, मध्यप्रदेश सरकारें स्कूलों को फिर से खोलने पर विचार कर रही है। जिसमें  प्रदेश में आठवीं तक के बच्चों के लिए स्कूल फिलहाल नहीं खुलेंगे। उत्तर प्रदेश सरकार 19 अक्टूबर से स्कूल खुलेंगी। बेंगलुरु. कर्नाटक सरकारों ने कहा कि 30 तक छुट्टी रहेगी, ऑनलाइन क्लास भी नहीं होंगी यहां 30 अक्टूबर तक छुट्टी का आदेश दिया है। क्योंकि दीपावली को ध्यान में रखते हुए भी यह फैसला लिया गया है।