दिल्ली का खाना कई लोगों को बेस्ट लगता है और यहां तक की कहीं और का खाना खाते भी नहीं हैं. दिल्ली में स्वादिष्ट स्ट्रीट फूड से लेकर लैविश रेस्टोरेंट तक आप हर जगह खाने के शौकीनों की जबरदस्त भीड़ देख सकते हैं. लेकिन जिन रेस्टोरेंट या ढाबे का खाना आप खा रहे हैं, क्या जानते हैं कि वो कितने पुराने हैं या कितने समय से लोगों की सेवा में लगे हुए हैं. तो चलिए जानते हैं दिल्ली के सबसे पुराने रेस्टोरेंट्स के बारे में.

यह भी पढ़े :Love Jihad: प्यार में फंसाकर बी फार्मेसी की छात्रा का गैंगरेप और हत्या, लव जेहाद का है शक


मोती महल

मोती महल को भारत के विभाजन के दौरान अस्तित्व में आने वाले पहले रेस्टोरेंट के रूप में जाना जाता है. ये जगह पेशावरी खाने, तंदूरी और बटर चिकन के लिए प्रसिद्ध है. इसे 1947 में पेश किया गया था.

यह भी पढ़े : Name Astrology: अपनी पत्‍नी को जी-जान से प्‍यार करते हैं ये लड़के, इन अक्षरों से शुरू होता है नाम


दिल्ली का करीम

अगर आप टेस्टी मुगल खाने को चखना चाहते हैं, तो एक बार करीम जाकर आए. केवल दिल्लीवासी ही नहीं बल्कि हर शहर के लोग भी नॉन वेज खाने का मजा लेने के लिए यहां आते हैं. माना जाता है कि यह 1913 से स्थापित है और यहां लजीज खाना परेसा जाता है.

यह भी पढ़े : Surya Gochar 2022 : 15 मई से सूर्य राशि परिवर्तन का इन 6 राशियों पर पड़ेगा शुभ प्रभाव, मेष व सिंह वाले करें ये काम


क्वालिटी रेस्टोरेंट

रेस्टोरेंट 1940 में स्थापित किया गया था और ऑथेंटिक नार्थ इंडियन खाने और मुगलई खाने को सर्व करता है. अगर आप इस रेस्टोरेंट में जाएंगे, तो यहां की सजावट आपको काफी पुराने जमाने की दिखेगी.

भारतीय कॉफी हाउस

अगर आप कॉफी लवर हैं, तो दिल्ली के भारतीय कॉफी हाउस में जरूर जाएं. इंडियन कॉफी हाउस जिसे आईसीएच के नाम से जाना जाता है, दिल्ली में कनॉट पैलेस में वर्ष 1957 में स्थापित किया गया था.

एंबेसी रेस्टोरेंट और बार

दिल्ली में कोई रेस्टोरेंट एम्बेसी रेस्टोरेंट की ऑथेंसिटी को कम नहीं कर सकता. इस रेस्टोरेंट को 1948 में खोला गया था. यह बार दिखने में बेहद खूबसूरत है और इसे एक अलग थीम के साथ डिजाइन किया गया है.