इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने फॉर्म 16 में बड़ा बदलाव किया है।  टैक्स डिपार्टमेंट से अधिसूचित संशोधित फॉर्म 12 मई 2019 को प्रभाव में आएगा।  इसका मतलब है कि वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न संशोधित फॉर्म 16 के आधार पर भरा जाएगा।  इसका मकसद इसे अधिक व्यापक और सूचना देने वाला बनाना है। 

आपको बता दें कि फॉर्म 16  में मकान से आय और अन्य कंपनियों से प्राप्त अलाउंस समेत विभिन्न बातों को जोड़ा गया है।  इस तरह से इसे अधिक व्यापक बनाया गया है। इससे इनकम को छुपाना मुश्किल हाेगा।  इस तरह कर चोरी पर अंकुश लगेगा।  आयकर रिटर्न (ITR) भरने के मकसद से फॉर्म 16 संस्थान अपने कर्मचारियों को जारी करते हैं। 

 - फॉर्म 16 कर्मचारियों के टीडीएस (स्रोत पर कर कटौती) का ब्योरा होता है।  इसे जून के मध्य में जारी किया जाता है. इसका उपयोग आयकर रिटर्न भरने में किया जाता है। 

-  इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से अधिसूचित संशोधित फॉर्म 12 मई 2019 को प्रभाव में आएगा।  इसका मतलब है कि वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न संशोधित फॉर्म 16 के आधार पर भरा जाएगा। 

- अन्य बातों के अलावा संशोधित फॉर्म 16 में बचत खातों में जमा पर ब्याज के संदर्भ में कटौती का ब्योरा और छूट एवं अधिभार (जहां लागू हो) भी शामिल होगा। 

- आयकर विभाग पहले ही वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न फॉर्म को अधिसूचित कर चुका है।