पटना। बिहार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मुख्य विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष पद की दावेदारी को लेकर राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के परिवार में घमासान मचने का दावा करते हुए आज कहा कि परिवार की सत्तालोलुपता से शुरू हुई इस पार्टी का अंत भी परिजनों की सत्ता की इसी लोलुपता के कारण होगा। 

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने गुरुवार को यहां कहा कि राजद की शुरुआत एक 'परिवार' की सत्तालोलुपता के कारण हुई थी और इसका अंत भी परिवार के परिजनों की सत्तालोलुपता से ही होगा। लोग बताते हैं कि आज राजद का सुल्तान बनने के लिए परिवार में घमासान मचा हुआ है, जिसे ढांपते-ढांपते इनके नेता अब हांफने और कांपने लगे हैं। 

यह भी पढ़े : Vat Savitri Vrat 2022: इस व्रत को करने से होती है अखंड सौभाग्य और संतान की प्राप्ति , भीगे चने खाने की भी है परंपरा

हालात यह है कि आज परिवार के कारण राजद में पांच अलग-अलग गुट बने हुए हैं, जहां हर किसी को माथा टेकना पड़ रहा है। डॉ. जायसवाल ने कहा कि परिवार के हर गुट के अपने चापलूस और दुश्मन हैं, जो अपने-अपने नेताओं की पैरोकारी करते रहते हैं। उन्होंने कहा कि आज इन सबके बीच पार्टी पर कब्जे के लिए महायुद्ध छिड़ा हुआ है, जिसमें इनके आम कार्यकर्ता और नेता पिसते चले जा रहे हैं।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि परिवार के इन पांच ध्रुवों के बीच चल रहे संग्राम में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की सबसे अधिक दुर्गति हो रही है। उनके लिए अपना सम्मान बचाना मुश्किल हो रहा है। हर किसी को डर लगा रहता है कि न जाने कब उन्हें 'एक लोटा पानी' बता दिया जाएगा। वहीं, इनके आम कार्यकर्ता हर समय 'पीट' दिए जाने या सरेआम 'बेइज्जत' किए जाने के डर से भयभीत रहते हैं। एक के पास जाने से दूसरे गुट की आंखों पर चढ़ जाने की चिंता इन्हें हरदम खाए रहती है इसीलिए इन्हें आज पांचों जगह शीश नवाना पड़ रहा है। 

यह भी पढ़े : एक के बाद एक शानदार पारियों के चलते बढ़ गईं चेतेश्वर पुजारा की टीम इंडिया में वापसी की उम्मीदें

डॉ. जायसवाल ने कहा कि यह स्थिति तब है जब यह सत्ता में नहीं है। यदि गलती से भी यह सत्ता में आ गये तो इनके बाहुबलियों और भ्रष्टाचारियों को पांच जगह चढ़ावा देना पड़ेगा। इससे साफ है कि इनके सत्ता में आने से अपराध और भ्रष्टाचार भी इनके पूर्व के आतंकराज की तुलना में पांच गुना बढ़ जाएगा। तय है कि तब राज्य में विकास राज की जगह भ्रष्टाचार राज कायम हो जाएगा और राज्य में भय और आतंक के एक नए युग की शुरुआत होगी। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि परिवार के लिए पार्टी की बलि चढ़ाने की ऐसी जिद और अपने स्वार्थ के लिए कार्यकर्ताओं के मान-सम्मान और भविष्य की आहुति मांगने वाला परिवारवाद राजद में ही संभव है। उन्होंने कहा कि परिवार के कारनामों को देखते हुए राजद का हश्र कांग्रेस से भी बदतर होना तय है।