नई दिल्ली. हेमन्त सरकार को अस्थिर करने की बड़ी साजिश चल रची जा रही थी. पुलिस ने स्पेशल ब्रांच के इनपुट पर रांची के एक होटल में रेड कर शुक्रवार को इस सिलसिले में तीन लोगों को पकड़ा. इनके कुछ साथी मौका देखकर फरार हो गये. पकड़े गये लोगों को गुप्त स्थान पर ले जाकर उनसे लंबी पूछताछ हुई. पकड़े गये लोगों के फीडबैक के आधार पर आधा दर्जन और लोगों को पुलिस ने उठाया है. इन लोगों ने कुछ स्थानीय विधायकों के साथ हवाई यात्रा भी की है.

पुलिस ने उसका भी साक्ष्य बरामद कर लिया है. हवाला के माध्यम से बड़ी राशि आई थी. सूत्रों के अनुसार पुलिस के हाथ भी बड़ी राशि के साथ मोबाइल के माध्यम से कुछ दस्तावेज हाथ लगे हैं. जाहिर हुआ है कि विधायकों को पटाने में लगे थे. 

सूत्रों के अनुसार इनके तार महाराष्ट्र, दिल्ली के साथ शराब और कोयला पट्टी से भी जुड़े हैं. पुलिस ने जिन कुछ और लोगों को हिरासत में लिया है उनमें एक कोलकाता का रहने वाला है और एक बड़े उद्योगपति से उसका संबंध है. हाल ही हवाला कारोबार के सिलसिले में रांची और धनबाद में कई ठिकानों पर पुलिस ने रेड किया था. 

बहरहाल शुक्रवार को पकड़े गये लोगों पर राज्यद्रोह, धोखाधड़ी आदि की धाराएं लगाई गई हैं. हालांकि पुलिस इस मामले में कुछ भी बताने से परहेज कर रही है. इस घटना के बाद जिला से लेकर पुलिस मुख्यालय के साथ राजनीतिक हलकों में बेचैनी पसरी हुई है, सक्रियता काफी तेज है. मामले से जुड़े पुलिसकर्मियों को मीडिया से परेज करने की सख्त हिदायत है.

पूर्व आइपीएस अधिकारी सह कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि हमारी पार्टी के साथ कुछ निर्दलीय विधायकों पर वे डोरे डाल रहे थे, ऐसी सूचना है. करीब एक दर्जन विधायकों की घेरेबंदी की साजिश रची जा रही थी. अभी पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है. जानकारी के अनुसार इस सिलसिले में रांची के कोतबाली थाना में अभिषेक दुबे, अमित सिंह और निवारण महतो के खिलाफ आइपीसी की धारा 419, 420, 124-ए, 120-बी, 34, पीआर एक्ट 171 और पीसी एक्ट की धारा 8/9 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

अभिषेक दुबे रांची के ही देवी मंडप रोड का रहने वाला है, वर्तमान में पलामू के हुसैनाबाद में रह रहा था. अमित सिंह बिहार के सिवान का रहने वाला है वर्तमान पता बोकारो है. निवारण महतो भी बोकारो का रहने वाला है. अदालत में पेश करते हुए पुलिस ने 15 दिनों के रिमांड पर देने का आग्रह किया है. 

प्राथमिकी के अनुसार इन पर सरकार को गिराने की साजिश रची है. मोबाइल के साथ दो लाख रुपये जब्त किये गये हैं. प्राथमिकी के अनुसार तीनों ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है. पुलिस सूत्रों के अनुसार जल्द ही बड़ी साजिश के भंडाफोड़ की उम्मीद की जा रही है जिसमें साजिशकर्ता कुछ बड़े राजनेता बेनकाब हो सकते हैं.