दुनिया में हमारे पूर्वजों के पास कई तरह की करेंसी थी। अभी आधुनिक जमाने में वो सभी एक दुर्लभ हो गए हैं। अभी जिनके पास भी उन्होंने संजोग कर रखा है। कुछ लोग होते हैं जो बेच देते हैं। इसी तरह से दुनिया में दुर्लभ या पुराने सिक्के होते हैं, वो उनकी कीमत से कई गुना ज्यादा भाव में बिक जाते हैं और यानी 1 रुपये के पुराने सिक्के के लिए लोग कई बार हजारों रुपये देते हैं। इतिहास को संजोग कर ही रखा जाता है।


138 करोड़ रुपये का सिक्का


कुछ ऐसे सिक्के होते हैं जो कभी एक-दो लाख रुपये तक नीलाम हो जाते हैं। क्या आपने सोचा है कि कोई एक छोटा सा सिक्का 138 करोड़ रुपये में भी बिक सकता है। आप भी सोच रहे होंगे कि आखिर उस सिक्के में ऐसा क्या था कि किसी ने उस एक सिक्के के लिए 138 करोड़ रुपये की बोली लगा दी है। अमेरिका में एक सिक्के की नीलामी 18.9 मिलियन यानी 138 रुपये में की गई है। यह सिक्का सोने का था।
 

सिक्के की खासियत

बचने वाले के पास यह सिक्का 20 डॉलर का था यानी मात्र 1400 रुपये का सिक्का ही था। इस सिक्के की खासियत यह है कि यह साल 1933 का सिक्का है और सोने का बना हुआ है. साथ ही इस सिक्के को डबल ईगल कॉइन कहा जाता है, जिस वजह से इसकी वैल्यू काफी बढ़ गई है। यह सिक्का निजी हाथों में था और सिक्के की नीलामी में 138 करोड़ में खरीद लिया गया है। यह इकलौता स्टैम्प है, जिसे दक्षिण अमेरिकी राष्ट्र द्वारा मुद्रित किया गया था।