अगर सब एक जैसा चला तो भारत में दुनिया की पहली हाइपरलूप ट्रेन चलेगी। हाइपरलूप पर वर्जिन ग्रुप ने परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को अपना प्रस्ताव पेश किया है। समूह चाहता है कि वे दिल्ली और मुंबई के बीच ट्रेन की सुविधा प्रदान करें। रिपोर्ट के अनुसार, परियोजना के बारे में महाराष्ट्र सरकार के साथ पहले से ही बातचीत चल रही थी।


लेकिन शिवसेना सरकार के नेतृत्व वाली परियोजना को रोक दिया गया। अब कंपनी का एक प्रतिनिधि नितिन गडकरी के साथ मिलकर परियोजना पर बातचीत को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहा है।


मीडिया सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली और मुंबई के बीच 13 किलोमीटर की दूरी पर ट्रेन चलाने के लिए कंपनी के प्रतिनिधियों ने नितिन गडकरी से मुलाकात की है। समूह के कुछ प्रतिनिधि वर्तमान में भारत में हैं और परियोजना से जुड़े सभी हितधारकों के साथ बातचीत कर रहे हैं। हाइपरलूप ट्रेन की बात करें तो हाइपरलूप ट्रेन एक ट्यूब से होकर गुजरती है और इसकी रफ्तार 1200 किमी/घंटा तक है।


हालांकि, भले ही इस बारे में बात की जा रही हो। लेकिन वर्तमान में यह संभव नहीं है। अब तक, दुनिया में कहीं भी इस तकनीक का उपयोग नहीं किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार, परियोजना के पहले चरण में 11.8 किमी लंबे ट्रैक के लिए लगभग 10 अरब डॉलर और 2.5 साल लगने की उम्मीद है।