पंजाब में कांग्रेस का आपसी विवाद खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. इस बीच कांग्रेस महासचिव हरीश रावत ने बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह से उनके आवास पर मुलाकात की. मुलाकात पर रावत ने कहा है कि कैबिनेट फेरबदल को लेकर कोई बात नहीं हुई है. दरअसल, ऐसी खबर थी कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने खिलाफ मोर्चा खोलने वाले दो मंत्रियों को हटाने की मांग की है.

हरीश रावत ने कहा, "सब कुछ ठीक है, हम सुलह की ओर बढ़ रहे हैं. विवाद को खत्म करने का काम किया जा रहा है. जो भी मुद्दे है उनको लेकर सीएम से बात हुई है. आने वाले समय में उन पर अमल होता हुआ दिखेगा. कैबिनेट फेरबदल को लेक र कोई बात नहीं हुई है. हम एक लोकतांत्रिक पार्टी है. आखिरकार हम इंसान हैं. बहुत सारे सवाल है जो अभी सुलझे नहीं है. अच्छी बात है जो काम उनको दिया है वो कर रहे हैं."

 

रावत कांग्रेस में पंजाब मामलों के प्रभारी हैं. वह अमरिंदर सिंह और सिद्धू गुटों के बीच जारी खींचतान के बीच मंगलवार को चंडीगढ़ पहुंचे थे. रावत ने बुधवार को मुख्यमंत्री सिंह से मोहाली स्थित उनके आवास पर मुलाकात की. बैठक करीब तीन घंटे तक चली. बैठक में महाधिवक्ता और डीजीपी भी मौजूद थे.

बैठक के बाद रावत ने बताया कि उन्होंने मुख्यमंत्री से कहा कि राज्य सरकार को बिजली उपभोक्ताओं को कुछ राहत देनी चाहिए. उन्होंने कहा, 'फिलहाल हम सरकार में हैं और बिजली उपभोक्ताओं को कुछ राहत देनी चाहिए.' उन्होंने उम्मीद जताई कि पंजाब सरकार जल्द ही सामान्य वर्ग के बिजली उपभोक्ताओं को कुछ राहत देगी. रावत ने अमरिंदर सिंह से पार्टी आलाकमान द्वारा दिए गए 18 सूत्री कार्यक्रम की प्रगति की भी जानकारी ली.