कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोशल मीडिया के माइक्रो वेबसाइट प्लेटफार्म ट्विटर पर देश की राजनीतिक प्रक्रिया में हस्तक्षेप करने का आरोप लगाते हुए शुकवार को कहा कि यह लोकतंत्र के लिए बड़ा खतरा है। गांधी ने अपना तथा पार्टी के अन्य पदाधिकारियों के ट्विटर एकाउंट बंद होने पर वीडियो प्रतिक्रिया जारी करते हुए कहा कि उनका ट्विटर एकाउंट बंद करके राजनीतिक प्रक्रिया में हस्तक्षेप किया जा रहा है। एक कंपनी भारत की राजनीति निर्धारित कर रही है। 

उन्होंने कहा, 'एक राजनेता के तौर पर मैं इसे पसंद नहीं करता।' गांधी ने कहा कि यह यह देश के लोकतांत्रिक ढांचे पर हमला है। उन्होंने कहा, 'यह राहुल गांधी पर हमला नहीं है। यह राहुल गांधी को नीचा दिखाना नहीं है। मेरे लगभग दो करोड़ फालोवर हैं। आप उन्हें उनका मत बनाने के अधिकार से रोक रहे हैं।' कांग्रेस नेता ने कहा कि ट्विटर एकाउंट बंद करने की कार्रवाई ट्विटर के तटस्थ होने की अवधारणा के भी खिलाफ है। यह निवेशकों के लिए भी खतरनाक है क्योंकि कंपनी एक राजनीतिक पक्ष बन रही है। 

गांधी ने कहा, 'देश का लोकतंत्र खतरे में हैं। हमें संसद में नहीं बोलने दिया जा रहा है। मीडिया को नियंत्रित किया जा रहा है। और मैं समझता हूँ कि ट्विटर एक आशा की किरण है जहां हम अपने विचार रखते हैं लेकिन यह भी समाप्त हो गयी।' उन्होंने कहा कि ट्विटर अब तटस्थ नहीं रहा है। यह अब पक्षपात करने वाला प्लेटफार्म है। उन्होंने आरोप लगाया कि यह सरकार के अनुरुप काम कर रहा है। कांग्रेस नेता ने कहा, 'भारतीयों के रुप में, हमें एक सवाल पूछना है कि क्या हम एक कंपनी को सरकार के अनुरुप देश की राजनीति तय करने देंगे। क्यद्य होने वाला है। क्या हम अपनी राजनीति स्वयं तय करेंगे। यह मुख्य सवाल है।'