यूक्रेन-रूस युद्ध अभी भी जारी है। 67 दिनों से चला आ रहा युद्ध खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। रूस के पावरफुल मेन व्लादिमीर पुतिन अब सत्ता छोड़ने वाले हैं। बताया जा रहा है कि पुतिन कुछ दिनों के लिए रूस की सत्ता किसी और के हाथों में सौंपने जा रहे हैं। इसका कारण है कि पुतिन पेट के कैंसर की सर्जरी होगी। लंबे अरसे के बाद उनका इलाज कराया जाएगा।


पेट के कैंसर और पार्किसंस के शिकार पुतिन
'द सन' की रिपोर्ट के मुताबिक रूसी राष्ट्रपति के कार्यालय क्रेमलिन के अंदरूनी सूत्रों का दावा है कि 69 साल के व्लादिमीर पुतिन पेट के कैंसर और पार्किंसंस रोग से जूझ रही हैं। उनका जल्द ही कैंसर का ऑपरेशन होना है। जिसके लिए वे अपने खास सहयोगी और हार्डलाइन स्पाई चीफ Nikolai Patrushev को सत्ता सौंपने वाले हैं।
 

यह भी पढ़ें- असम पुलिस ने 3 'जिहादी' मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, AQIS के नेता गिरफ्तार


70 साल के Nikolai Patrushev यूक्रेन के खिलाफ युद्ध की रणनीति तैयार करने वाले एक प्रमुख आर्किटेक्ट के रूप में देखा जाता है। सूत्रों का दावा है कि पात्रुशेव ने ही पुतिन को इस बात के लिए आश्वस्त किया कि यूक्रेन की सरकार नव-नाजीवाद से भर गई है और रूस के खिलाफ बड़ी साजिशें कर रही है।



कौन होगा रूस का नया शासकपुतिन ने अपने खास साथियों के साथ इस बात की चर्चा की है कि वे जल्द ही मेडिकल जांच की प्रक्रिया शुरू करवाने जा रहे हैं। इलाज कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें तुरंत ऑपरेशन की जरूरत है लेकिन यह कब होगा, इसके बारे में वे ही बता सकते हैं। सर्जरी के बाद जब तक वे फिट नहीं हो जाते, तब तक वे सरकार चलाने में अक्षम रहेंगे। हालांकि पुतिन को लगता है कि ऑपरेशन के बाद वे जल्द ही फिट हो जाएंगे।

9 मई के बाद सर्जरी करवा सकते हैं पुतिन
सूत्रों का कहना कि पुतिन काफी लंबे समय से कैंसर और पार्किसंस रोग से जूझ रहे हैं। ऑपरेशन न करवाने की वजह से ये दोनों बीमारियां लगातार बढ़ती जा रही हैं। ऐसे में पुतिन कब ऑपरेशन करवाएंगे, यह क्लियर नहीं है लेकिन इतना स्पष्ट है कि वे 9 मई से पहले ऑपरेशन के बारे में नहीं सोचेंगे। उस दिन रूस का नेशनल विक्ट्री डे होता है। उसी दिन रूस ने हिटलर की नाजी सेना पर विजय हासिल की थी। इसलिए उस दिन पुतिन हर हाल में मॉस्को में होने वाले मुख्य कार्यक्रम की अध्यक्षता करना चाहते हैं।