रूस और यूक्रेन युद्ध को 19 दिन पूरे हो चुके हैं लेकिन युद्ध खत्म नहीं हुआ है और ना ही शांति वार्ता में कोई बात बनी है। अब उम्मीद जताई जा रहा है कि चौथी वार्ता में में युद्ध को लेकर बात बन सकती है। इसी युद्ध के बीच यूरोप से चौंका देने वाली खबर सामने आई है, जहां रूस यूक्रेन यूद्ध के कारण यूरोप में कोरोना ब्लास्ट हो गया है। अब तक 20 लाख से ज्यादा यूक्रेनी शरणार्थी यूरोपीय देशों में पहुंचे हैं।
बताया जा रहा है कि इनमें से ज्यादातर का वैक्सीनेशन नहीं हुआ। WHO की तरफ से प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि यूक्रेन और आसपास के देशों में 3 से 9 मार्च के बीच कोरोना के कुल 791,021 नए मामले सामने आए और 8,012 नई मौतें दर्ज की गई। ऊधर, अब यूक्रेन के पश्चिमी इलाके में भी लड़ाई तेज हो गई है, जो अब तक 'सेफ हैवन' बना हुआ था।


यह भी पढ़ें- UP चुनाव परिणाम के बाद में मचा BJP कार्यकर्ता की मौत पर बवाल, 4 पुलिसकर्मी हुए सस्पेंड़


रूसी सेना ने NATO के सदस्य देश पोलैंड के बॉर्डर से महज 12 मील दूर यावोरिव में एक मिलिट्री ट्रेनिंग बेस पर क्रूज मिसाइलें दागकर 35 लोगों को मार दिया, जबकि 134 घायल हैं। रूस ने हमले में 180 विदेशी लड़ाकों को मारने का दावा किया है।
- रूसी एयर स्ट्राइक में 9 आम नागरिकों के मरने और दर्जन भर से ज्यादा के घायल होने का दावा रीजनल गवर्नर ने किया है।
- सूत्रों के मुताबिक यूक्रेन और रूस के अधिकारी आज फिर से शांति वार्ता करेंगे। यह बातचीत वीडियो कॉल के जरिए होगी।
- यूक्रेन के इरपिन शहर में रूसी सेना की गोलीबारी में अमेरिकी पत्रकार ब्रेंट रेनॉड की मौत हो गई। वहीं, उनके साथी पत्रकार जुआन अर्रेडोंडो घायल हो गए। 51 साल के रेनॉड अवॉर्ड विनिंग फिल्ममेकर भी थे।


यह भी पढ़ें- विदेश की मल्टीनेशनल कंपनीज की जॉब छोड़, PSC क्लियर कर बनी सबसे खूबसूरत DSP, तस्वीरें देख कायल हो जाओगे


- रूस के वित्त मंत्री एंटोन सिलुआनोव ने कहा कि विदेशी प्रतिबंधों से करीब 2.30 लाख करोड़ रुपए का फंड फ्रीज हो गया है। यह फंड रूसी सरकार के 4.91 लाख करोड़ रुपए के रेनी-डे फंड का हिस्सा था।
- रूस ने यूक्रेन में अपनी लड़ाई तेज करने के लिए चीन से मिलिट्री इक्विपमेंट मांगे हैं। अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से अतिरिक्त आर्थिक सहयोग भी मांगा है, ताकि अमेरिका, यूरोप व एशियाई देशों की तरफ से लगाए प्रतिबंधों से अपनी इकोनॉमी को बचा सके।