असम माध्यमिक शिक्षा परिषद ( सेबा ) द्वारा राज्यभर में हाल ही में घोषित हुए मैट्रिक के परीक्षाफल में शिवसागर में आर्थिक रूप से कमजोर पकौड़े बेचने वाले के बेटे ने डिस्टिंवशन मार्क्स के साथ 90 प्रतिशित अंक प्राप्त करके अन्य  छात्रों के लिए मिसाल पेश की है । 

मालूम हो कि शिवसागर श्री मुंदरमल मॉर्डन स्कूल के छात्र रोहित कुमार गिरी के पिता विजय गिरी की एक पकौड़े की दुकान है और सड़क किनारे वे इस दुकान को लगाकर अपने परिवार का पालन-पोषण करते है । इतना ही नहीं, इसी दुकान से वे रोहित व अपने चार सदस्यीय परिवार का खर्च भी चलाते है और अपनी धर्म पत्नी अनिता गिरी के साथ एक ही किराए के घर में रहकर जीवन यापन कर रहे है ।

 विद्यालय में अपनी पढाई पूरी करके रोहित भी अपने पिता के व्यवसाय में उनका हाथ बटाता है । और तो और महज एक कमरे वाले छोटे से घर में कठिन परिस्थितियों में मैट्रिक परीक्षा की तैयारी करके 90 प्रतिशत अंक प्राप्त किए है । मैट्रिक में बेटे की इस सफलता के बाद भी पिता इतने खुश नहीं है, क्योंकि उन्हें यह चिंता संताने लगी है कि परिवार की  इस आर्थिक हालत में रोहित आगे पढ़ने में शायद ही कामयाब हो पाएगा ।