एशियाई चैंपियनशिप में चौथा पदक अपने नाम करने वाले असम के मुक्केबाज शिव mथापा ने कहा कि मैं अब आक्रामक हो गया हूं । प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ इसी आक्रामक रवैए से मुझे काफी फायदा मिला है । उन्होंने हॉल में बैंकाक में समाप्त हुए सत्र में 60 किग्रा में कांस्य पदक जीता जबकि 2013 में स्वर्ण, 2015 में कांस्य और 2017 में रजत पदक अपने नाम किया था । 

दो बार  के ओलंपियन और विश्व चैपियनशिप के कांस्य पदकघारी ने कहा कि मैंने और अधिक आक्रामक होने की कोशिश की, अब मैं रिंग में पहले  ही क्षण से प्रतिद्वंद्वी को पस्त करने  की कोशिश करता हूं । थापा ने कहा कि मैं पदक के रंग को बदलने के लिए बेताब हूं और अगर मैं घरेलू दर्शकों के सामने ऐसा करूंगा तो इसकी खुशी और ज्यादा होगी ।