कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने गुरुवार को भाजपा नीत त्रिपुरा सरकार के नागरिकता (संशोधन) विधेयक का विरोध कर रहे लोगों के खिलाफ देशद्रोह के आरोप दर्ज करने के आदेश के बाद राजद्रोह कानून को समाप्त करने की वकालत की।







पूर्व वित्त मंत्री ने एक ट्वीट में कहा, भारतीय दंड संहिता की धारा 124 ए जो राजद्रोह को परिभाषित करती है, को निश्चित ही समाप्त किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, त्रिपुरा में, अगर आप नागरिकता (संशोधन) विधेयक के विरुद्ध बोलते हैं तो आप पर राजद्रोह के आरोप लगाए जाते हैं। त्रिपुरा पुलिस ने मंगलवार को दो जनजातीय नेताओं और मानवाधिकार कार्यकर्ता पर खुमुलवंग में विधेयक के विरोध में रैली में शामिल होने के लिए राजद्रोह का मामला दर्ज किया। रैली में कथित रूप से 'भारत विरोधी नारे' लगाए गए।