कोरोना संकट के बीच आर्कटिक से एक राहत देने वाली खबर सामने आई है। आर्कटिक के ऊपर मौजूद दुनिया का सबसे बड़ा ओजोन होल भर गया है। वातावरण की असामान्य परिस्थितियों के कारण बने इस 10 लाख मिलियन वर्ग किलोमीटर के होल का बंद होना, बहुत बड़ी राहत है। इसकी जानकारी मार्च में ही वैज्ञानिकों को लग चुकी थी, लेकिन अब रोपियन सेंटर फॉर मीडियम रेंज वेदर फॉरकास्ट की दो एजेंसियों ने भी इसकी पुष्टि कर दी है। 

कॉपरनिकस क्लाइमेंट चेंज सर्विस और कॉपरनिकस एटमॉसफियर मॉनिटरिंग सर्विस ने होल के भरने की इस घटना को अभूतपूर्व कहा। कॉपरनिकस (ईसीएमडब्ल्यूएफ) ने ट्वीट किया, अभूतपूर्व... 2020 उत्तर अक्षांश का ओजोन होल बंद हो गया है। बता दें कि ओजन की परत के कारण ही सूरज की अल्ट्रावॉयलेट किरणें पृथ्वी तक नहीं पहुंच पाती हैं, ऐसे में ओजोन की परत में इस बढ़ते हुए होल ने दुनिया को चिंता में डाल रखा था। इस होल के मानवीय गतिविधियों को ही जिम्मेदार माना गया था।

अब लॉकडाउन की वजह से वातावरण में सुधार आया है। ऐसे में माना जा रहा है कि इस वजह से ही यह सूराख भरा है, लेकिन वैज्ञानिकों ने इससे इंकार किया है। अभी इसकी ठीक वजह सामने नहीं आई है। बता दें कि यदि होल दक्षिण की तरफ बढ़ता जाता, तो बहुत बड़ा खतरा साबित हो सकता था, होल भरने से एक बड़ी राहत मिली है।