नशीले पदार्थों पर सरकार सख्ती से प्रतिबंध लगा रही है। लेकिन कुछ देश ऐसे हैं जो चाहते हैं जनता उन नशों की उपाज बढ़ाए। दरअसल में, थाईलैंड सरकार जनता को भांग का पौधा जो कि नशे के रूप में उपयोग किया जाता है, उसके पौधे लगाने की इजाजत दे रही है। इसके पीछे एक सरकार की अहम वजह है। साथ ही बात दें कि कई देशों ने लोगों को घर में भांग के पौधे लगाने के लिए खास कानून भी बना रखा है।


यह भी पढ़ें- मिजोरम के MADC में बहुमत से 1 सीट कम, BJP ने किया दावा


थाईलैंड की सरकार ने पूरे देश में एक लाख भांग के पौधे बांटने की योजना बनाई है। यह तब होगा जब घर पर भांग की खेती करने से अधिकांश कानूनी प्रतिबंध हटा दिए जाएंगे। इसे लेकर थाई के सार्वजनिक स्वास्थ्य मंत्री अनुतिन चरनवीराकुल ने इस महीने की शुरुआत में फेसबुक पर इसका ऐलान किया। उन्होंने कहा कि उनका ईरादा भांग के पौधों को "घरेलू फसलों" की तरह उगाना है।
ये है कारण-

दरअसल, थाईलैंड पिछले कुछ समय से भांग को नकदी फसल के रूप में बढ़ावा देने की कोशिश कर रहा है। वास्तव में, 2018 में, यह मेडिकल यूज के लिए उपयोग को वैध बनाने वाला दक्षिण पूर्व एशियाई क्षेत्र का पहला देश बन गया। ऐसे में यहां कि सरकार निवासियों को उनके निजी इस्तेमाल के लिए या एक छोटे पैमाने के कॉमरशियल एंटरप्राइज के हिस्से के रूप में मेडिकल-ग्रेड मारिजुआना विकसित करने की अनुमति देगी।

लोगों को क्यों दिए जाएंगे भांग के पौधे


थाई सरकार के अधिकारियों को उम्मीद है कि नए कानून के साथ, देश का बढ़ता भांग उद्योग धीरे-धीरे हर साल सैकड़ों मिलियन डॉलर का उत्पादन करना शुरू कर देगा, और इंटरनेशनल विजीटर्स को आकर्षित करेगा। इसके साथ मेडिकल टूरिज्म को मजबूत करेगा।

भांग को लेकर कानून


-घर पर उगाई जाने वाली भांग मेडिकल ग्रेड की होनी चाहिए।

-निकाली गई सामग्री अवैध रहेगी अगर इसमें 0.2 प्रतिशत से अधिक THC (टेट्राहाइड्रोकैनाबिनोल) है, जो कि पौधे का हिस्सा है जो लोगों को नशा करने के लिए जिम्मेदार है, तो इसके खिलाफ भी एक्शन लिया जाएगा।
-बड़े पैमाने के एंटरप्राइजेज को अभी भी देश के खाद्य एवं औषधि प्रशासन से अनुमति लेने की आवश्यकता होगी।
बैंकॉक पोस्ट की एक रिपोर्ट के अनुसार, एफडीए को पिछले महीने ही भांग और भांग के इंपोर्ट, रखने, उगाने और उत्पादन करने के लाइसेंस के लिए लगभग 4,700 आवेदन प्राप्त हुए थे।
-इस साल की शुरुआत में, थाईलैंड के नारकोटिक्स बोर्ड ने जून के उसी सप्ताह से अपनी दवाओं की लिस्ट से भांग को हटाने की योजना की घोषणा की।