करणी सेना ने बिहार के मधुबनी जिले में होली के दिन पांच लोगों की हुई हत्या की आज कड़ी निंदा की और कहा कि इस मामले में गिरफ्तार दोषियों को स्पीडी ट्रायल करा कर फांसी की सजा सुनिश्चित कराई जाए। करणी सेना के संस्थापक लोकेंद्र सिंह कालवी, राष्ट्रीय अध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना और बिहार के अध्यक्ष वी. के. सिंह ने आज पटना से मधुबनी के लिए निकाली गई आक्रोश यात्रा से पूर्व यहां संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि क्षत्रियों के साथ इस तरह की जघन्यता बर्दाश्त नहीं की जा सकती। 

इस घटना से देश के क्षत्रिय दुखी हैं और इसी से यह यात्रा मधुबनी तक निकाली जा रही है। करणी सेना के नेताओं ने कहा कि इस यात्रा में पूरे देश से आए सेना के पदाधिकारी समेत क्षत्रिय समाज के लोग शामिल हैं। मधुबनी जाकर सबसे पहले पीड़ित परिवार से भेंट की जाएगी और इस तरह की घटनाओं को भविष्य में कैसे रोका जाए उस पर विचार किया जाएगा। 

उन्होंने इस मामले में राज्य सरकार और प्रशासन के रवैए पर सवाल खड़े किए और कहा कि पहले तो इतनी बड़ी घटना के बाद कुछ नहीं किया गया और उल्टे जिनके परिवार वालों के साथ घटना घटी उनके लाइसेंसी हथियार भी पुलिस ने जब्त कर लिया। नेताओं ने सरकार से मांग की कि पीड़ति परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी और एक करोड़ रुपये मुआवजा दिया जाए। साथ गिरफ्तार अपराधियों का स्पीडी ट्रायल करा कर उन्हें फांसी की सजा दिलाई जाए।