देश की सबसे बड़ी डिजिटल पेमेंट कंपनी पेटीएम अब आईपीओ लाने की तैयारी कर रही है।  पेटीएम का आईपीओ 300 करोड़ डॉलर यानी करीब 22,500 करोड़ रुपये का हो सकता है। यानी कंपनी आईपीओ के जरिए  बाजार से 22500 करोड़ रुपये जुटाना चाहती है। इसके बाद इसकी वैल्यूएशन बढ़कर 25-30 करोड़ डॉलर यानी 2.25 लाख करोड़ रुपये हो जाने का अनुमान है। 

पेटीएम का आईपीओ इस साल दिवाली तक आ सकता है।  अगर ऐसा होता है तो प्राइमरी मार्केट के निवेशकों के लिए यह दिवाली धमाकेदार हो सकती है।  रिपोर्ट के मुताबिक पेटीएम प्राइमरी मार्केट से करीब 22,000 करोड़ रुपये जुटाने के लिए आईपीओ लॉन्च करने की तैयारी में है।  रिपोर्ट के मुताबिक पेटीएम की पेरेंट कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स इस आईपीओ को मंजूरी देने के लिए 28 मई को एक बैठक करेंगे। 

 

पेटीएम के बड़े निवेशकों में वॉरेन बफे की कंपनी बर्कशायर हैथवे, जापान की इन्वेस्टमेंट फर्म सॉफ्टबैंक ग्रुप और चीनी कंपनी अलीबाबा ग्रुप की एंट ग्रुप शामिल हैं।  इस आईपीओ में फ्रेश शेयर्स के साथ कंपनी ने प्रमोटर्स और मौजूदा निवेशक ऑफर फॉर सेल के जरिये शेयर जारी करेंगे, ताकि कुछ कंपनियों के एग्जिट का रास्ता मिले। 

देश में अभी तक सबसे बड़ा आईपीओ सरकारी कंपनी कोल इंडिया का रहा है।  साल 2010 में कोल इंडिया ने आईपीओ से 15,200 करोड़ रुपये जुटाए थे।  वहीं इससे पहले अनिल अंबानी ग्रुप की कंपनी रिलायंस पावर 11 हजार करोड़ रुपये का आईपीओ लाई थी।  पिछले साल एसबीआई पेमेंट एंड कार्ड ने 10 हजार करोड़ रुपये का आईपीओ लॉन्च किया था।