पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में जांगीपुर स्थित एक सरकारी अस्पताल में शनिवार को एक दिल दहलाने वाला नजर आया, जहां लोग कोरोना वायरस टेस्ट के लिए खुद ही अपना स्वैब सैम्पल जमा कर रहे थे। इस दौरान अस्पताल का कोई भी स्टाफ वहां मौजूद नहीं था। स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस मामले पर जांगीपुर अस्पताल से जवाब मांगा गया है।

यह जाने बगैर कि यह कैसे किया जाता है काफी संख्या में लोग खुद ही अपने गले से स्वैब लेते देखे गए, फिर स्लाइवा को जमा करने के बाद उसे एक ट्यूब में भी रखा। इस पूरी प्रक्रिया के दौरान वहां अस्पताल का सिर्फ एक कर्मचारी मौजूद था, जो टेस्ट कराने आए लोगों का ब्योरा लिख रहा था।

एक महिला ने कहा, 'मैंने अपना स्वैब सैम्पल खुद ही लिया। यह एक कठिन काम था, लेकिन दो से तीन कोशिशों के बाद मैं इसे करने में सफल रही। हालांकि मुझे नहीं पता कि मैंने स्वैब सैम्पल सही से जमा किया है या नहीं। मैंने सैम्पल को वहां रख दिया है।'

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के मुताबिक पश्चिम बंगाल में शनिवार को एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक 14,281 मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 7,28,061 हो गई।

बुलेटिन के अनुसार , संक्रमण के चलते 59 और रोगियों की मौत के बाद मृतकों की कुल तादाद 10,884 हो गई। राज्य में बीते 24 घंटे में 7,584 लोग संक्रमण से उबरे हैं। उपचाराधीन रोगियों की संख्या 81,375 है। पश्चिम बंगाल में शुक्रवार के बाद से से 55,060 नमूनों की जांच की जा चुकी है।