उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री तथा अयोध्या के राम मंदिर आंदोलन की अग्रिम पंक्ति में रहे कल्याण सिंह ने लखनऊ में मीडिया को संबोधित किया। राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह ने बेबाक कहा कि राम मंदिर आंदोलन के पहले दिन हमने जो सपना देखा था, वो अब पूरा हुआ है।


भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रहे कल्याण सिंह ने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि का मामला राजनीतिक नहीं, बल्कि एक सांस्कृतिक मुद्दा था। सुप्रीम कोर्ट का इसको लेकर फैसला पूरी तरह से न्यायसंगत व सर्वसमावेशी है। इसी कारण किसी ने भी इसके विरोध में आवाज नहीं उठाई है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर आंदोलन के पहले दिन जो संकल्पना लोगों ने बनाई थी, वो पूरी होने जा रही है। देश में नौ नवंबर 2019 एक ऐतिहासिक दिन था। इस दिन 500 वर्ष पुराने विवाद का खात्मा हुआ।


अयोध्या फैसले के बाद कल्याण सिंह ने मीडिया से आज कहा कि हम राम मंदिर पर राजनीति नहीं करते हैं। सभी को फैसले का सम्मान करना चाहिए। कल्याण सिंह ने कहा कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनना चाहिए। वहां पर राम के साथ अयोध्या का विकास होना चाहिए। मैं अयोध्या जरूर जाऊंगा। मैं पहले दिन से ही राम भक्त हूं। मस्जिद को लेकर पांच एकड़ जमीन देने पर कल्याण सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने न्याय और कानून का पालन किया है, सुप्रीम कोर्ट ने समाज की एकता व अखंडता का भी ध्यान रखा है।