दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप अपनी जड़े जमा चुका है। कोरोना की वैक्सीन या कोई सटीक दवा न बन पाने की कारण लोग सोशल सिस्टेंसिंग के साथ मास्क  लगा कर ही कोरोना से बचने की कोशिश कर रहे हैं। कोरोना महामारी के कारण दुनिया हर तरह का व्यापार बंद हो गया था। जिससे करोड़ों का नुकसान व्यापरियों को भुगतना पड़ रहा है। अभी भी लॉकडाउन खुलने के बाद भी व्यापारी नुकसान की भरपाई नहीं कर पाए हैं। लेकिन कोरोना महामारी ने लोगों का रोजगार छींना है उसी तरह से कई लोगों को रोजगार दिया भी है।


कई लोग हैं जो सालों दुनिया की भाग दौड़ में अपने अंदर के हुनर को कहीं कोने भी दफ्न कर दिया था। लेकिन जब भाग दौड़ जिंदगी से थोड़ी फुरसत मिली तो वो हुनर जो सालों कहीं खो गया था वो फिर से साफ कर उसे लोगों का दिखाने का समय कोरोना लॉकडाउन में मिल गया था। जैसे की हम जानते हैं कि कोरोना से लड़ने में सबसे ज्यादा एन-95 मास्क सक्षम है। लेकिन रिपोर्ट्स के सामने आया है कि N-95 मास्क के चलते लोगों को सांस लेने में तकलीफ हो रही है। इसी के चलते लोग तरह-तरह के मास्क लगाने लग गए।


कपड़े के मास्क सभी लगाते हैं लेकिन क्या आपने सुना है कि धातु के मास्क कभी किसी को लगाते हुए देखा है। तुर्की के एक शख्स ने कुछ ऐसा ही कमाल किया है जिसने सबसे मंहगी धातु के मास्क बनाए हैं। जी हां देमीर्चि नाम के शख्स ने सोने और चांदी के मास्क बनाए हैं। जो लोगों को काफी पसंद आ रहे हैं। वैज्ञानिकों ने बताया कि चांदी वैक्टिरीयां लड़ने में सबसे अच्छा धातु है। चांदी में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। मास्क को आरामदायक बनाने के लिए इसमें अंदर सिल्क भी लगाया गया है।