अफगानिस्तान में  तालिबनियों ने एक बार फिर आतंक मचा दिया है। राष्ट्रपति भवन पर कब्जा कर जल्दी ही सरकार बनाने की घोषणा करने वाले हैं। इसी बीच तालिबानियों धूल चाटाने उनका दुश्मन सामने आ गया है। अफगान के दशकों से विद्रोहियों का गढ़ रहे पंजशीर घाटी के एक बेटे ने तालिबान आतंकियों के खात्मेश का प्रण किया है। तालिबान के सबसे बड़े दुश्मन और अफगानिस्तान के उप राष्ट्रपति अमरुल्लाि सालेह की ने तालिबान को एक बार फिर ललकार लगा दी है।

राष्ट्रपति अशरफ गनी के देश से फरार होने के बाद उप राष्ट्रपति अमरुल्लाा सालेह ने खुद को अफगानिस्तान का राष्ट्र पति घोषित कर दिया है। जानकारी के लिए बता दें कि ये वही सालेह हैं जो अक्सतर पाकिस्तान पर तीखे वार करते हैं और भारत के सबसे करीबी दोस्त माने जाते हैं। इन सब से बेपरवाह उप राष्ट्ररपति अमरुल्ला  से फिर से तालिबान के खिलाफ ऐलान-ए-जंग कर दी हैं।


तालिबन के कब्जे से पहले अमरुल्ला सालेह अफगानिस्तान के उपराष्ट्र पति का पदभार संभालने से पहले देश की खुफिया एजेंसी एनडीएस के चीफ थे। ताजिक जातीय समूह से आने वाले अमरुल्ला की एक बहन थी। तालिबान आतंकियों ने अमरुल्ला सालेह का पता लगाने के लिए उनकी बहन को पकड़ लिया और बुरी तरह से प्रताड़ित किया। जिससे अमरुल्ला की बहन की मौत हो गई। एक पहले तालिबानियों को अमरुल्ला सालेह अफगानिस्तान से भगा चुके हैं और अब एक बार फिर से तालिबानियों को जड़ से खत्म करने का अमरुल्ला सालेह ने ऐलान कर दिया है।