भारतीय सेना ने जम्मू कश्मीर में एक बड़े आतंकी हमले को नाकाम करते हुए आतंकवादियों को ढेर कर दिया। ये आतंकी सेना की एक कंपनी की ऑपरेटिंग बेस पर घुसपैठ करने का प्रयास कर रहे थे। इस कार्रवाई में सेना के तीन जवान शहीद हो गए हैं। बताया जा रहा है कि दोनों आतंकी सुइसाइड बॉम्बर थे। 

ये भी पढ़ेंः सुनील बंसल को मिली बड़ी जिम्मेदारी, बने भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव, धर्मपाल होंगे उ.प्र. के नए संगठन महामंत्री


राजौरी के दारहाल इलाके के परगल में सेना के कैंप फेंस को आतंकी पार कर रहे थे। इसी दौरान सेना के जवानों ने उन्हें रोकने का प्रयास किया। इसी दौरान सुरक्षाबल अलर्ट हो गए। आतंकियों को रोकने का प्रयास किया गया। जम्मू जोन के एडीजीपी मुकेश सिंह ने बताया कि आतंकियों के हमले में तीन जवान शहीद हो गए हैं। इलाके में कुछ और आतंकी छिपे हो सकते हैं इसलिए दारहल थाने से 6 किलोमीटर दूर तक सुरक्षाबलों की कई टीमें लगाई गई हैं। आतंकियों की तलाश जारी है।

ये भी पढ़ेंः 4000 KM दूर से आकर इस्लाम अपनाया, उर्दू सीखी और लड़की ने की शादी


इससे पहले जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले में बुधवार को हुई मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने कश्मीरी पंडित राहुल भट और महिला कलाकार अमरीन भट के कथित हत्यारों तथा लश्कर ए तैयबा का शीर्ष कमांडर समेत तीन आतंकवादियों ढेर कर एक बड़ी कामयाबी हासिल की हैं। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक विजय कुमार ने बताया कि बडगाम के वाटरहेल इलाके में एक मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा का कमांडर लतीफ राथर उर्फ अब्दुल्ला अपने दो सहयोगियों के साथ मारा गया। कुमार ने यहां संवाददाताओं से कहा, आतंकवादी कमांडर का खात्मा एक बड़ी सफलता है क्योंकि वह कई नागरिकों की हत्याओं में शामिल कानूनी वांछित था। 

उन्होंने कहा, वर्ष 2022 के दौरान, अपने सीमा पार हैंडलर सज्जाद गुल के निर्देश पर, लतीफ राथर ने चदूरा इलाके में एक कश्मीरी पंडित कर्मचारी राहुल भट और एक कलाकार अमरीन भट की हत्या सहित कई आतंकवादी अपराधों तथा नागरिक अत्याचारों को अंजाम दिया। गौरतलब है कि इस साल मई में दो हफ्ते के अंदर राहुल और अमरीन की हत्या कर दी गई। गत 12 मई को कश्मीरी पंडित राहुल भट की चदूरा बडगाम में उनके कार्यालय के अंदर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। महिला कलाकार अमरीन भट, जो अपने टिकटॉक वीडियो के लिए जानी जाती हैं, की 25 मई को बडगाम जिले में उनके घर पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।