तेलंगाना के निजामाबाद जिले में पुलिस ने पिछले हफ्ते हुई तिहरे हत्याकांड (Nizamabad triple murder) में 19 वर्षीय एक किशोर को गिरफ्तार किया है। हाल ही में जेल से रिहा हुए गंधम श्रीकांत उर्फ रणमपल्ली मल्लन्ना ने 7 और 8 दिसंबर की रात को डिचपल्ली में एक वर्कशॉप में सो रहे तीन लोगों की कथित तौर पर हत्या (triple murder) कर दी थी। निजामाबाद के पुलिस आयुक्त कार्तिकेय ने कहा कि तीनों की हथौड़े से हत्या करने के बाद श्रीकांत उनके मोबाइल फोन और पैसे लेकर भाग गया।

पीड़ितों की पहचान पंजाब के हार्वेस्टर मैकेनिक हरपाल सिंह (32) और जोगिंदर सिंह (45) और संगारेड्डी जिले के क्रेन ऑपरेटर बनोथ सुनील के रूप में हुई है। पुलिस ने निजामाबाद में जाने-माने अपराधियों से पूछताछ के बाद मामले का पदार्फाश (Telangana Murder case) किया। श्रीकांत के घर छापेमारी के दौरान खून से लथपथ एक शर्ट बरामद किया गया। पुलिस ने उससे पूछताछ की तो आरोपी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

पुलिस आयुक्त ने घटना स्थल का दौरा करने के बाद अपराधी को पकड़ने के लिए तीन टीमों का गठन किया था। पिछले अपराधियों और हाल ही में जेलों से रिहा हुए लोगों की सूची की जांच के अलावा, जांचकताओं ने आसपास के इलाकों में सीसीटीवी फुटेज सहित अन्य सुरागों पर काम किया। आरोपी ने पुलिस को बताया कि उसने नशे की हालत में अपराध किया है। वह पैसे चुराने के इरादे से वर्कशॉप में घुसा तो देखा कि तीन लोग सो रहे हैं। उसने सुनील को हथौड़े से मार डाला (hammer kill) और उसका मोबाइल छीन लिया। इसके बाद वह वर्कशॉप के दूसरे हिस्से में गया जहां हरपाल और जोगिंदर सो रहे थे।

उसने उन्हें भी उसी हथौड़े से मार डाला और उनका मोबाइल फोन और नकदी लेकर फरार हो गया। पुलिस के अनुसार, कचरा बीनने वाला श्रीकांत बचपन से ही आदतन अपराधी (habitual offender) था और आठ अपराधों में शामिल था। उसने एक मंदिर के चौकीदार पर हमला किया था और एक हांडी चुरा ली थी। इस मामले में उन्हें तीन साल के लिए हैदराबाद में बाल गृह भेजा गया था और इसी अक्टूबर में रिहा कर दिया गया था।