तेलंगाना में कोरोना वायरस कहर को देखते हुए आज 10 दिनों का लॉकडाउन लगाने का ऐलान किया गया है। मंगलवार को तेलंगाना के मुख्यमंत्री के नेतृत्व में कैबिनेट की महत्वपूर्ण बैठक हुई, जिसमें लॉकडाउन को लेकर निर्णय लिया गया। लॉकडाउन के दौरान सुबह 6 बजे से 10 बजे तक सभी गतिविधियों को छूट दी गई है। बैठक में कोरोना की वैक्सीन खरीदने के लिए ग्लोबल टेंडर आमंत्रित करने का फैसला भी लिया गया।
राज्य में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है, जिसको रोकने के लिए राज्य सरकार ने यह फैसला लिया है। बीते सोमवार को राज्य में  कोरोना के 4823 नए केस सामने आए और 32 लोगों की मौत हो गई। फिलहाल राज्य में कोरोना के करीब 63 हजार एक्टिव मामले हैं। लगातार यह संख्या बढ़ती जा रही है।

तेलंगाना राज्य मंत्रिमंडल ने बुधवार 12 मई सुबह 10 बजे से 10 दिनों के लिए तालाबंदी लागू करने का निर्णय लिया है। इन दस दिनों के लिए सभी गतिविधियों को प्रतिदिन सुबह 6 बजे से 10 बजे तक अनुमति दी जाएगी। मंत्रिमंडल ने कोविड वैक्सीन की खरीद के लिए वैश्विक निविदाएं बुलाने का फैसला किया।
तेलंगाना में कोरोना से अब तक 2700 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। राहत की बात यह है कि राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों को रिकवरी रेट 86.94 प्रतिशत है। तेलंगाना के पड़ोसी राज्य आंध्र प्रदेश में कोरोना की स्थिति भयावह होती जा रही है। सोमवार को ऑक्सीजन की कमी के कारण आंध्र प्रदेश में 11 मरीजों की मौत हो गई।

तेलंगाना समेत अब तक देश के अधिकतर राज्यों ने कोरोना पर काबू पाने के लिए लॉकडाउन लगाने का ऐलान किया है। पिछले 24 घंटों में देश में कोरोना के 3.50 लाख से ज्यादा मामले सामने आए हैं। कोरोना की दूसरी लहर से देश में हालात काफी बदतर हो गए हैं। इसी बीच एक्सपर्ट्स ने कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनी जारी दी है, जिसको देखते हुए सभी राज्य सख्त पाबंदियां लगाकर संक्रमण को काबू में करने की कोशिश कर रहे हैं।