राष्ट्रीय जनता दल के नेता जगदानंद सिंह ने आरएसएस की तुलना तालिबान से कर दी।  जिसके बाद बिहार की राजनीति गरमा गई है।  वहीं अब नेता प्रतिपक्ष ने भी आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष के बयान का समर्थन किया है और राज्य की एनडीए सरकार को तालिबानियों की सरकार कहा है।  इस विवादित टिप्पणी के बाद सत्तापक्ष हमलावर है। 

आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने बुधवार को एक विवादित बयान दे दिया जिसके बाद सूबे की राजनीति गरमा गई।  उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को भारत का तालिबान कह दिया।  जगदानंद सिंह ने तालिबान को केवल नाम नहीं बल्कि अफगानिस्तान की एक संस्कृति बताया और उसकी तुलना भारत में आरएसएस से कर दी।  इसके बाद भाजपा इस बयान को लेकर हमलावर हो गई। 

वहीं जगदानंद सिंह के इस बयान की आग अभी थमी भी नहीं थी कि बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष व लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने इस बयान का समर्थन कर दिया।  तेजस्वी ने राज्य की एनडीए सरकार को तालिबानियों की सरकार बताया।  जिसके बाद इस मामले ने और तूल पकड़ लिया है। 

समाचार पत्र हिंदुस्तान के अनुसार, तेजस्वी ने कहा कि जहां भाजपा की सरकार है वहां समझिए सरकार तालिबानी चला रहे हैं और जहां नहीं है वहां संघी तालिबान चला रहे हैं. देश में दो तरह का तालिबान है। एक सरकारी तालिबान और एक संघी तालिबान.ये दोनों ही देश में कट्टरता और धार्मिक उन्माद फैला रहे है। 

वहीं बीजेपी प्रवक्ता ने इस बयान को लेकर जगदानंद सिंह को घेरा है।  मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने जगदानंद सिंह को हिटलर सिंह बताया।  बता दें कि हाल में ही लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह को हिटलर बताया था।  जिसके बाद दोनों के बीच जमकर विवाद हुआ।  वहीं पटना पहुंचे चिराग पासवान ने देश के किसी संगठन को आतंकी संगठन तालिबान से तुलना करने का दुर्भाग्यपूर्ण और गलत बताया है।