बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने कहा है कि राज्‍य में शराबबंदी फ्लॉप है। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार का पार्टी, प्रशासन व सरकार पर कंट्रोल है, लेकिन शराबबंदी फेल है। 

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार बिहार के सबसे बड़े शराब माफिया  हैं। नीतीश कुमार की सरकार में सत्‍ताधारी दल के कई विधायक भी नशे में बार बालाओं संग ठुमके लगाते देखे जा चुके हैं। सरकार बड़े लोगों पर कार्रवाई नहीं कर रही, केवल गरीबों-मजदूरों पर कार्रवाई कर रही है।

भारतीय जनता पार्टी (BJP) नेता व नीतीश सरकार में मंत्री रामसूरत राय के भाई के घर से शराब की बरामदगी पर तेजस्‍वी यादव ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्‍होंने कहा कि सरकार ने शराबबंदी कानून का मजाक बना दिया है। 

तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार से मंत्री रामसूरत राय को बर्खास्त करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि वंचित समाज के लोगों को ही शराबबंदी कानून से परेशान किया जा रहा है। उन्हें जेल भेजा जा रहा है। जबकि, मंत्री और अधिकारी शराब बेच रहे हैं।

तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया कि नीतीश कुमार इस राज्य के सबसे बड़े शराब माफिया हैं, क्योंकि उनकी जानकारी में ही सबकुछ हो रहा है। फिर भी कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। मंत्री रामसूरत राय के घर से शराब पकड़ी गई है। जमीन उनके पिता की है। उनके भाई पर एफआइआर है तो वे गुनाहगार हैं। उन्हें सरकार में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है।

तेजस्वी ने कहा कि नीतीश सरकार के 64 फीसद मंत्री दागी हैं। नीतीश कुमार को तो पता नहीं रहता। जबकि, तमाम मंत्री एफेडेविट देकर चुनाव जीते और मंत्री बने हैं।

पश्चिम बंगाल के मुद्दे पर तेजस्वी ने बीजेपी पर भी हमला बोला। कहा कि जब चुनाव आता है, बीजेपी जीतने के लिए हर तरह के हथकंडे अपनाती है। ममता बनर्जी  पर इसीलिए हमले हो रहे हैं।