बिहार (Bihar) में दो सीटों कुशेश्वरस्थान और तारापुर विधनसभा क्षेत्रों में उपचुनाव (By-election) को लेकर शनिवार को वोट डाले जाएंगें। मतदान के करीब 24 घंटे के पूर्व शुक्रवार को विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने जदयू (JDU) पर वोट को प्रभावित करने के लिए साड़ी बंटवाने का आरोप लगाया है। सत्ता पक्ष ने इन आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि चुनाव में हार की आशंका के कारण तेजस्वी ऐसा बयान दे रहे हैं।

राजद नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने शुक्रवार को पटना में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जद (यू) के नेता वोट के लिए छठ के नाम पर साड़ी बंटवा रहे हैं। उन्होंने एक वीडियो भी दिखाया, जिसमें एक महिला बता रही है कि उसे तीर छाप पर वोट देने के लिए कहा गया है और साड़ी दी गई है। उसके साथ अन्य भी महिलाओं को साड़ी दी गई है।

उन्होंने सत्ता पक्ष के लोगों पर पैसे बांटने का भी आरोप लगाया। तेजस्वी (Tejashwi) ने कहा कि यह उपचुनाव राजद (RJD) और जदयू (JDU) के बीच नहीं बल्कि सरकार और जनता के बीच है। उन्होंने कहा कि बिहार में उपचुनाव (By-election) से पहले जमकर शराब बांटी जा रही है। कई जगह प्रशासन शराब बंटवाने का काम कर रहा है।

उन्होंने आरोप लगाया कि कई जगह थाना प्रभारी ही फोन पर डीलरों से बात कर शराब बंटवा रहे हैं। इधर, सत्ताधारी गठबंधन के नेताओं ने तेजस्वी के इन आरोपों का खंडन किया है। पूर्व मंत्री और जदयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि इस उपचुनाव में पिता और पुत्र (लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव) के संयुक्त प्रयास के बाद भी राजनीतिक अग्निपरीक्षा में जनादेश प्रतिकूल आना तय है। यही कारण है कि वे मिथ्या आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हार देखकर तेजस्वी बेचैन हो रहे है।

उन्होंने तेजस्वी को चुनौती देते हुए कहा कि आप कितना भी जतन कर लीजिए, लेकिन बिहार की जनता आपको जान चुकी है।

इधर, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (HAM) के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि तेजस्वी यादव मतदान के पूर्व उपचुनाव में हार देखकर मानसिक तौर पर दिवालियापन के शिकार हो गए हैं। रिजवान ने कहा कि तेजस्वी यादव को लगता है कि अगर दोनों सीटों पर चुनाव हार जाएंगें तो उनकी विश्वसनीयता समाप्त हो जाएगी। यही कारण बिना सबूत के कोई भी आरोप लगा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि अगर तेजस्वी यादव को लग रहा है कि कुछ मंत्री कुछ कर रहे हैं, तो इसकी शिकायत चुनाव आयोग को करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अब ये चुनाव हारेंगे तो ईवीएम को भी दोषी ठहराएंगें। हम के नेता ने कहा कि कुशेश्वरस्थान और तारापुर की जनता भी विकास को चुनेगी।