हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले के निगुलसरी में हुए भूस्खलन और पहाड़ों से पत्थर गिरने के कारणों का अध्ययन करने लिए केंद्र सरकार की कई टीमें पहुंची हैं। जियोलॉजी सर्वे ऑफ इंडिया के भू वैज्ञानिक भूस्खलन का अध्ययन करे रहे हैं। वहीं पूह पुलिस थाना से मिली जानकारी के मुताबिक पूह से स्पैलो जा रही एक कार पर राष्ट्रीय राजमार्ग-पांच पर सिसो खड्ड के समीप पत्थर गिरने से क्षतिग्रस्त हो गई है। 

इस हादसे में हालांकि कोई नुकसान नहीं हुआ है। उल्लेखनीय है कि किन्नौर के निगुलसारी और चैरा के बीच गत 11 अगस्त को पहाड़ दरकने से राज्य परिवहन निगम एक बस के अलावा टिप्पर और कई अन्य वाहन मलबे की चपेट में आ गए थे। गत मंगलवार को हादसे के सातवें दिन तीन और लोगों के शव निकाले जाने के बाद इस घटना में मृतकों की संख्या 28 पहुंच गई है। 

इसके साथ ही सबसे लम्बा और कठिन सर्च ऑपरेशन पूरा कर लिया गया है जिसमें राष्ट्रीय आपदा राहत बल, पुलिस, भारत तिब्बत सीमा पुलिस, सतलुज जल विद्युत निगम में तैनात केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल, गृहरक्षक और अन्य बचाव दलों के 200 से अधिक जवान और स्थानीय लोग जान जोखिम में डाल कर बचाव एवं तलाशी अभियान में जुटे रहे।