एक ओर जहां ग्लोबल वॉर्मिंग और जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभाव के चलते कई प्रजातियां विलुप्त होने की कगार है वहीं ऑस्ट्रेलिया से एक राहत देने वाली खबर सामने आई है। हजारों साल गायब रहने के बाद ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में ‘तस्मानिया डेविल’ नाम की एक प्रजाति ने वापसी की है। इस प्रजाति के सिर्फ नाम में ‘शैतान’ है, असल में यह छोटे कुत्ते जैसा एक जीव है। 

तस्मानिया डेविल को करीब 3000 साल के बाद देखा गया है। इस खबर के बाद पर्यावरणविद काफी खुश हैं। तस्मानिया डेविल प्रजाति की वापसी बायोडायवर्सिटी के नजरिए से बेहद अहम घटना है। तस्मानिया डेविल दुनिया का सबसे बड़ा मार्सुपियल कार्निवोर होता है। इसकी लंबाई 30 इंच तक और वजन 26 पाउंड तक होता है। हाल ही में देखे गए तस्मानिया डेविल 3000 सालों में जन्में इस प्रजाति के पहले जीव हैं।

ऑस्ट्रेलिया के तस्मानिया में डेविल आर्क सेंचुरी नाम की छोटी पहाड़ी को बैरिंगटन टॉप के नाम से भी जाना जात है। यहां के कुछ अधिकारियों ने तस्मानिया डेविल के 7 बच्चों को एक गड्ढे में पड़े हुए देखा। इन बच्चों के साथ उनकी मां नहीं थी। इन बच्चों को देखकर अधिकारी उम्मीद लगा रहे हैं कि आने वाले समय में इनकी आबादी बढ़ सकती है। हजारों साल पहले बड़ी मात्रा में शिकार के चलते तस्मानिया डेविल की प्रजाति विलुप्त हो गई थी। जंगली कुत्तों की प्रजाति डिंगोस तस्मानिया डेविल का शिकार करती थी जिससे डिंगोस की आबादी बढ़ गई और तस्मानिया डेविल विलुप्त हो गए। इसके फेस ट्यूमर की बीमारी के चलते भी इस प्रजाति में बड़ी संख्या में मौतें हुईं।