पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के मुताबिक सोनोवाल सरकार जीरो टॉलरेंस नहीं पूरी की पूरी टॉलरेंस नीति पर चल रही है। शासद दल के ही सांसद के खुले आरोप में सब कुछ सामने होने के बावजूद संबंधित मंत्री के खिलाफ किसी कार्रवाई का न होना यही बताता है।

उन्होंने कहा कि भाजपा सांसद आरपी शर्मा के आरोपों की सीबीआई से जांच होनी चाहिए। यहां पत्रकारों के सामने गोगोई राज्य सरकार पर जमकर बरसे। भाजपा सांसद शर्मा के बयान को उन्होंने बेहद संगीन निरूपित किया। उनके अनुसार किसी सरकार के लिए यह आरोप इसलिए भी काफी अधिक चिंताजनक हो जाना चाहिए क्योंकि इसे लगाने वाला कोई और नहीं बल्कि सत्ताधारी पार्टी का ही एक अहम सासंद है। इसलिए इसकी गहराई से जांच होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि भाजपा सांसद ने तो एक मंत्री को छोड़ कर बाकी सब पर अंगुली उठा दी है। मुख्यमंत्री को इसे गंभीरता से लेते हुए गहन जांच करनी चाहिए। गोगोई के मुताबिक राज्य में ऐसी सरकार है, जिसके मुख्यमंत्री जीरो टॉलरेंस का दंभ भरते हैं, लेकिन यहां तो पूरा का पूरा टालरेंस ही दिखाई देता है। मुख्यमंत्री टॉलरेंस ही कर रहे हैं। सब कुछ सामने आ रहा है। जिस मंत्री का नाम लिया जाता है, उस पर कोई कार्रवाई नहीं होती। उनका इशारा मंत्री रंजीत दत्त की ओर था। पूर्व मुख्यमंत्री के मुताबिक राज्य के कुछ मंत्री तो डेढ़ साल भी लोभ से नहीं बच सके।