तमिलनाडु ने बुधवार से टीकाकरण अभियान को स्थगित करने की घोषणा की थी, लेकिन मंगलवार रात को केंद्र सरकार से 4.95 लाख टीके मिलने के बाद उसने लोगों का टीकाकरण जारी रखने की घोषणा की है। इसमें कोविशील्ड की 4,20,570 खुराक और कोवैक्सिन की 75,000 खुराक शामिल हैं। राज्य ने पहले घोषणा की थी कि वह बुधवार से टीकाकरण अभियान को बंद कर देंगे क्योंकि उसके पास टीकों की कमी है और उन्हें 6 जून को ही टीकों का अपना कोटा प्राप्त होगा।

तमिलनाडु के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री, एमए सुब्रमण्यम और राज्य के स्वास्थ्य सचिव जे राधाकृष्णन ने अलग-अलग बयानों में जनता को बताया कि टीकाकरण अभियान बुधवार से निलंबित कर दिया जाएगा। सुब्रमण्यम ने बुधवार को कहा, राज्य में कुल वैक्सीन स्टॉक अब 6.50 लाख खुराक को छू गया है, जिसमें 45 और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए 4.95,570 खुराक शामिल हैं और हम बुधवार को भी टीकाकरण प्रक्रिया जारी रखेंगे। हमें उम्मीद थी कि आपूर्ति केवल 6 जून तक थी और इसलिए पहले मंगलवार के बाद वैक्सीन ड्राइव को स्थगित करने की घोषणा की थी, लेकिन जैसा कि हमें मंगलवार रात को आपूर्ति मिली, वैक्सीन का काम बिना किसी बाधा के जारी रहेगा।

जन स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि राज्य को अब तक वैक्सीन की 1.01 करोड़ खुराक मिल चुकी है और 90.50 लाख खुराक पहले ही दी जा चुकी है। बुधवार से रोजाना कम से कम 1.5 से 2 लाख वैक्सीन की खुराक पिलाई जाएगी और जन स्वास्थ्य एवं निवारक चिकित्सा निदेशालय की वेबसाइट पर वैक्सीन की उपलब्धता का जिलेवार विवरण प्रदर्शित किया जाएगा। मंत्री ने यह भी कहा कि जनसंख्या के आधार पर जिलों को टीके वितरित किए जाएंगे और इसलिए चेन्नई को कोयंबटूर के बाद सबसे अधिक खुराक मिलेगी। सुब्रमण्यम ने कहा, मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने पश्चिमी तमिलनाडु को विशेष देखभाल प्रदान करने का निर्देश दिया है क्योंकि इस क्षेत्र में मामलों में मामूली वृद्धि हुई है और इसलिए कोयंबटूर, तिरुपुर और इरोड जैसे पश्चिमी तमिलनाडु जिलों को उच्च आवंटन दिया जाएगा। राज्य में मंगलवार को कुल 98,183 लोगों का टीकाकरण किया गया, जिसमें 18-44 आयु वर्ग में 47,567 और 45 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए बाकी राशि शामिल है।