अफगानिस्तान के हालात बहुत ही खराब हो चुके हैं। तालिबान अफगान पर काबिज होने के लिए तैयार है। तालिबान ने राष्ट्रपति भवन पर कब्जा कर आज तालिबान की तरफ से नई सरकार को लेकर घोषणा की जाने की संभावना है। कयास लगाए जा रहे हैं कि “ मुल्ला बरादर को नया राष्ट्रपति ” बनाया जा सकता है। इधर चीन, रूस, तुर्की और पाकिस्तान नई तालिबान सरकार को मान्यता दे चुके हैं।

दूसरी ओर अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन ने अफगानी नेताओं पर हमला बोला है। उन्होंने राष्ट्रपति के देश छोड़ने के कदम की भी कड़ी आलोचना की है। राष्ट्रपति बाइडेन ने कहा है कि “ कब तक अमेरिकी सैनिक अपनी जान देते रहते ”। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना को वापस बुलाने के फैसले का बचाव करते हुए अफगान नेतृत्व को बिना किसी संघर्ष के तालिबान को सत्ता सौंपने के लिए जिम्मेदार ठहराया है।


चेतावनी


इसी के साथ ही तालिबान को चेतावनी दी कि अगर उसने अमेरिकी कर्मियों पर हमला किया या देश में उनके अभियानों में बाधा पहुंचायी, तो अमेरिका जवाबी कार्रवाई करेगा। बाइडन ने अफगानिस्तान से आ रही तस्वीरों को ‘‘अत्यंत परेशान’’ करने वाली बताया। राष्ट्रपति बाइडेन ने कहा कि ‘‘ अमेरिकी सैनिक किसी ऐसे युद्ध में नहीं मर सकते जो अफगान बल अपने लिए लड़ना ही नहीं चाहते ’’।



भारत ने अफगानीयों के लिए वीजा की घोषणा

गृह मंत्रालय ने अफगानिस्तान में मौजूदा हालात को देखते हुए भारत आने की इच्छा रखने वाले अफगान नागरिकों की अर्जियों पर जल्द फैसलों के लिए वीजा की नयी श्रेणी की घोषणा की। अफगानिस्तान में तालिबान के सत्ता पर कब्जा जमाने के दो दिन बाद यह घोषणा की गयी है।


गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि ‘‘गृह मंत्रालय अफगानिस्तान में मौजूदा हालात को देखते हुए वीजा प्रावधानों की समीक्षा की है। भारत में प्रवेश के लिए वीजा अर्जियों पर जल्द फैसला लेने के लिए ‘ई-आपातकालीन एवं अन्य वीजा’ की नयी श्रेणी बनायी गयी है।’’ विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट किया, ‘‘मौजूदा हालात के मद्देनजर, यह फैसला किया गया है कि काबुल में हमारे राजदूत और उनके भारतीय कर्मियों को तत्काल भारत लाया जाएगा।’’