अफगानिस्तान के पंजशीर प्रांत में तालिबान के खूनी खेल से अमरीका के दो सांसद नाराज चल रहे हैं। अब इन दोनों सांसदों ने तालिबान को विदेशी आतंकवादी संगठन (एफटीओ) घोषित करने की मांग की है। इसे लेकर रिपब्लिकन सांसदों ने सदन में दो प्रस्ताव भी पेश किए हैं। प्रस्ताव को दक्षिण कैरोलिना के सांसद लिंडसे ग्राहम और फ्लोरिडा के प्रतिनिधि माइक वाल्ट्ज द्वारा पेश किया। 

दोनों ही सांसद उत्तर पूर्व अफगानिस्तान के पंजशीर प्रांत में तालिबान द्वारा की जा रही कार्रवाई से नाराज है। ग्राहम ने यहां जारी एक बयान में कहा, तालिबान को विदेशी आतंकवादी संगठन के रूप में नामित करने से देशों के लिए उन्हें सहायता और मान्यता देने में कठिनाई होगी। उन्होंने कहा कि सख्त संकेत भेजने होंगे कि  अमरीका आतंकवादी समूहों और उनके साथ सुहानभूति रखने वालों के साथ व्यापार नहीं करता है। एक चैनल ने बताया, तालिबान हर मायने में कट्टरपंथी जिहादी हैं और आतंक को अपनी रणनीति के रूप में इस्तेमाल करता है। 

विदेश विभाग के प्रवक्ता ने मंगलवार को पेश किए गए प्रस्तावों पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। बाइडेन प्रशासन ने कहा है कि वे इस बात पर नजर रखे हुए है कि तालिबान अफगानिस्तान पर कैसे शासन करता है। उन्होंने चेतावनी दी है कि वे अफगानिस्तान को आतंकवादी गतिविधियों का अड्डा न बनने दें। वाल्ट्ज ने एक बयान में कहा, हमें अफगानिस्तान में जिस खतरे का सामना करना पड़ रहा है, उसके बारे में हमें स्पष्ट रूप से नजर रखनी चाहिए और इसकी जमीनी हकीकत यह है कि तालिबान आतंकवादी हैं। सांसदों ने अमरीकी प्रशासन द्वारा अफगानिस्तान को किसी भी तरह की फंडिंग से इंकार किए जाने का भी आह्वान किया है।