अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद तालिबान पहली बार मीडिया के सामने आया है। काबुल से तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की है जिसमें उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदायों की चिंताओं पर बात की। इसमें महिलाओं के प्रति उसका रवैया कैसा होगा, अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं संग वह वैसे संबंध रखना चाहता है, मीडिया के लिए उसके क्या नियम होंगे? सबके जवाब तालिबान की तरफ से मिले हैं।

तालिबान की प्रेस कॉन्फ्रेंस की प्रमुख बातें यह रहीं कि वह अंतरराष्ट्रीय समुदाय से उसे मान्यता देने की मांग कर रहा है। साथ ही साथ अफगानिस्तान में मौजूद दूतावासों को भी नुकसान नहीं पहुंचाने का वादा किया गया है। महिलाओं, प्रेस को कुछ नियमों के साथ वह छूट देने का वादा कर रहा है।

तालिबान ने दुनिया से किए ये वादे
1- अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल किसी भी देश के खिलाफ साजिश रचने, हमला करने के लिए नहीं होने दिया जाएगा।

2- किसी भी अंतरराष्ट्रीय दूतावास या संस्था को नुकसान नहीं पहुंचाएंगे। उनको तालिबान द्वारा ही सुरक्षा दी जाएगी। जबीहुल्ला मुजाहिद  ने कहा, 'काबुल में दूतावासों की सुरक्षा हमारे लिए महत्वपूर्ण है। हम सभी देशों को आश्वस्त करना चाहते हैं कि हमारे बल सभी दूतावासों, अंतरराष्ट्रीय संगठनों और सहायता एजेंसियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए मौजूद हैं।'

3- महिलाओं को शरिया कानून के तहत अधिकार और आजादी देंगे। हेल्थ सेक्टर और स्कूलों में वे काम कर सकेंगी। क्या मीडिया में भी महिलाएं काम कर सकेंगी? इस सवाल पर प्रवक्ता ने घुमा-फिराकर जवाब दिया। वह बोले कि जब तालिबान सरकार बन जाएगी तब साफ-साफ बताया जाएगा कि शरिया कानून के हिसाब से क्या-क्या छूट मिलेंगी।

4- प्राइवेट मीडिया को स्वतंत्र रूप से काम करने देंगे। प्रवक्ता ने यहां किंतु-परंतु की गुंजाइश छोड़ते हुए कहा कि, 'बस पत्रकार अफगानिस्तान के मूल्यों का ख्याल रखकर काम करेंगे।'

5- प्रवक्ता ने कहा कि अफगान युद्ध अब खत्म हो गया है। जिसने भी बीते वक्त में तालिबान के खिलाफ युद्ध लड़ा, उसको तालिबान माफ करता है। प्रवक्ता ने आगे कहा- किसी भी देश-व्यक्ति से बदला लेने का इरादा नहीं है। इसमें पूर्व सैनिक, पूर्व अफगान सरकार के सदस्य भी शामिल हैं।

6- अफगानिस्तान में कोई किसी को किडनैप नहीं कर सकेगा। कोई किसी की जान नहीं ले सकेगा। सुरक्षा को लगातार बढ़ाएंगे।

7- तालिबान ने वादा किया कि उनके राज में देश की अर्थव्यवस्था और लोगों का जीवन स्तर सुधरेगा।

8- तालिबान के प्रवक्ता ने कहा, 'तालिबान की प्राथमिकता कानून व्यवस्था बनाने की है। इसके बाद लोग शांति से रह सकेंगे।'

9- अफगानिस्तान में रह रहे लोगों को तालिबान ने भरोसा दिया, 'कोई आपको नुकसान नहीं पहुंचाएगा। कोई आपका दरवाजा नहीं खटखटाएगा।'

10- प्रवक्ता ने दावा किया कि पिछली सरकार (अशरफ गनी की सरकार) किसी योग्य नहीं थी और किसी को सुरक्षित नहीं रख सकती थी। प्रवक्ता ने वादा किया कि तालिबान सबको सुरक्षा देगा।