मुल्ला अब्दुल गनी बरादर के नेतृत्व में एक तालिबान प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार को चीन में विदेश मंत्री वांग यी के साथ पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ETIM) की गतिविधियों पर बीजिंग में बढ़ती चिंताओं की पृष्ठभूमि के खिलाफ बातचीत की, जो एक उइगर राज्य स्थापित करना चाहता है।

चीनी पक्ष या तालिबान की ओर से बैठक के बारे में कुछ नहीं बताया गया। तालिबान के प्रतिनिधिमंडल के साथ वांग की कई तस्वीरें, जिनमें प्रवक्ता सुहैल शाहीन भी शामिल थे, सोशल मीडिया पर पोस्ट की गईं।

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने एक सूत्रों के जरिए मिली जानकारी के अनुशार बरादर, जो कतर में तालिबान के राजनीतिक कार्यालय के प्रमुख हैं और अमेरिका के साथ वार्ता के लिए प्रमुख वार्ताकार रहे हैं, उन्होंने उत्तरी शहर तियानजिन में वांग से मुलाकात की। 

यह पहली बार है, जब तालिबान के एक वरिष्ठ नेता ने चीन का दौरा किया है, क्योंकि समूह ने पूरे अफगानिस्तान में क्षेत्र पर कब्जा करने के लिए बड़े पैमाने पर आक्रामक अभियान शुरू किया है। चीन ने 2019 में तालिबान के एक प्रतिनिधिमंडल की मेजबानी की है, जो अफगानिस्तान के विशेष दूत डेंग ज़िजुन से मिला था।

चीनी अधिकारियों ने पहले भी अफगानिस्तान, अमेरिका और पाकिस्तान के प्रतिनिधियों के साथ तालिबान के साथ बातचीत में भाग लिया था, लेकिन इसके परिणामस्वरूप राजनीतिक समाधान खोजने के प्रयासों में कोई प्रगति नहीं हुई थी।

जून में अफगान और पाकिस्तानी समकक्षों के साथ एक बैठक में वांग ने "तालिबान को राजनीतिक मुख्यधारा में वापस लाने" की कसम खाई और अफगान शांति वार्ता की मेजबानी करने की पेशकश की।

24 जुलाई को चीन में वांग और उनके पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी के बीच एक बैठक में दोनों पक्ष अफगानिस्तान में बिगड़ती सुरक्षा स्थिति से निपटने के लिए संयुक्त कार्रवाई करने पर सहमत हुए।

चीन के सरकारी मीडिया ने वांग के हवाले से कहा, ''चीन और पाकिस्तान अफगानिस्तान में बिगड़ती स्थिति के "प्रत्यक्ष प्रभाव" का सामना कर रहे हैं और दोनों देश "अफगानिस्तान में गृह युद्ध को रोकने के प्रयास में शांति की आशा और अफगानों के बीच बातचीत के लिए मध्यस्थता" पर काम करेंगे।''

संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, ETIM के अफगानिस्तान में कई सौ लड़ाके हैं, जोकि मुख्य रूप से बदख्शां और पड़ोसी प्रांतों में हैं। संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में कहा गया है कि ईटीआईएम शिनजियांग में एक उइगर राज्य स्थापित करना चाहता है और अफगानिस्तान से चीन के लिए लड़ाकों की आवाजाही की सुविधा प्रदान करता है।

कथित तौर पर ईटीआईएम के अल-कायदा, इस्लामिक स्टेट-खुरासन और जमात अंसारुल्लाह के साथ संबंध हैं और समूह के डिप्टी कमांडर हाजी फुरकान बदख्शां प्रांत में 400 सहित 1,000 से अधिक विदेशी आतंकवादियों का नेतृत्व करते हैं।

ईटीआईएम अफगानिस्तान में चीन की मुख्य चिंता बनी हुई है और युद्धग्रस्त देश में शांति और स्थिरता सुनिश्चित करने के उसके प्रयासों का फोकस है।