तालिबान ने अफगानिस्तान में माध्यमिक लड़कियों के स्कूलों को फिर से खोलने के कुछ ही घंटों बाद बंद करने का आदेश दिया है। उन्होंने कहा कि वे स्कूल तब तक बंद रहेंगे, जब तक कि उनके लिए इस्लामी कानून के अनुसार एक योजना तैयार नहीं की जाती। तालिबान शिक्षा मंत्रालय ने पिछले हफ्ते कहा था कि हाई स्कूल की लड़कियों की शिक्षा पर महीनों की पाबंदी के बाद 23 मार्च को देश भर में लड़कियों सहित सभी छात्रों के लिए स्कूल खुलेंगे।

ये भी पढ़ेंः ITR फाइल करने की अंतिम तारीख नजदीक, नहीं फाइल करेंगे तो हो सकती है जेल!


मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने मंगलवार (22 मार्च) को सभी छात्रों का कक्षा में वापस आने का स्वागत करते हुए एक वीडियो जारी किया। सरकारी समाचार एजेंसी बख्तर न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार को मंत्रालय के एक नोटिस में कहा गया है कि इस्लामिक कानून और अफगान संस्कृति के अनुसार एक योजना तैयार किए जाने तक लड़कियों के स्कूल बंद रहेंगे। नोटिस में कहा गया है, हम सभी गल्र्स हाई स्कूलों और उन स्कूलों को सूचित करते हैं जिनमें कक्षा छह से ऊपर की छात्राएं हैं कि वे अगले आदेश तक बंद हैं। तालिबान के प्रवक्ता इनामुल्ला समांगानी ने आदेश की वैधता की पुष्टि की।

ये भी पढ़ेंः भूलकर भी नहीं करें बिस्तर पर बैठकर भोजन, इंसान को कंगाल बना देती हैं ये आदतें


तालिबान के अपनी घोषणा से पीछे हटने से पहले ही, ह्यूमन राइट्स वॉच (एचआरडब्ल्यू) ने लड़कियों को स्कूल वापस जाने की अनुमति देने के तालिबान के  दृढ़ संकल्प के बारे में संदेह व्यक्त किया था।एचआरडब्ल्यू ने मंगलवार को कहा, अफगानिस्तान में 23 मार्च, 2022 को सभी लड़कियों के माध्यमिक स्कूलों को फिर से खोलने की तालिबान की प्रतिज्ञा की सावधानीपूर्वक निगरानी की जरूरत है। एचआरडब्ल्यू के हीथर बर्र ने कहा, तालिबान के बयान अक्सर तालिबान की कार्रवाइयों से बहुत अलग होते हैं। किसी को भी यह विश्वास नहीं करना चाहिए कि तालिबान ने लड़कियों को माध्यमिक शिक्षा से रोकना बंद कर दिया है जब तक कि जमीनी सबूत यह नहीं दिखाते हैं कि ऐसा ही है।