तालिबान ने जून में अफगान सुरक्षा बलों के 700 ट्रकों, दर्जनों बख्तरबंद गाड़ियां और तोपों पर कब्जा कर लिया था। रिपोर्ट में कहा गया कि सोशल मीडिया पर पोस्ट की गई कुछ तस्वीरों की जांच की गई थी। इसका मतलब यह है कि तालिबान से लड़ने में मदद के लिए अफगानिस्तान को दान में दिए गए या बेचे जाने वाले सैन्य उपकरणों की भारी मात्रा आतंकी संगठन के पास ही जा रही है। तालिबानी आतंकियों पर हाल ही में एक रिपोर्ट जारी की गई है। जिसमें दावा किया है कि तालिबान लगातार अपने आप को मजबूत बना रहे हैं। इस रिपोर्ट में तालिबान द्वारा ऑनलाइन पोस्ट की गई सैकड़ों तस्वीरों की जांच की गई जिसमें आतंकियों के पास कब्जा किए गए अफगान सैन्य उपकरण दिखाई दे रहे हैं।

रिसर्च में 30 जून की शाम तक 715 हल्के वाहनों पर तालिबान द्वारा कब्जा किए जाने और अन्य 65 को नष्ट किए जाने के सबूत मिले हैं। विदेशी मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि तालिबान ने अमरीकी बलों द्वारा छोड़े गए उपकरण और गोला-बारूद को जब्त कर लिया है। तालिबान द्वारा जारी एक वीडियो में यह भी दावा किया गया है कि उन्होंने अफगान बलों से कई हथियार जब्त किए हैं। हालांकि तालिबान ने अभी तक इस संबंध में कोई फोटो या वीडियो जारी नहीं किया है।

काबुल में अमरीकी जनरल ऑस्टिन एस मिलर ने आशंका जताई है कि अफगानिस्तान में गृह युद्ध छिड़ सकता है। उन्होंने कहा है कि मौजूदा हालात गृह युद्ध की संभावना को बढ़ा सकते हैं। अफगानिस्तान हाई काउंसिल फॉर नेशनल रिकंसलिएशन के अध्यक्ष डॉ। अब्दुल्लाह अब्दुल्लाह का कहना है कि नागरिकों की सुरक्षा के लिए अफगान नेताओं को एकजुट होना चाहिए। उन्होंने कहा कि वो शांति चाहते हैं लेकिन युद्ध धीरे-धीरे उनके नजदीक आ रहा है।