भारत द्वारा हेरात में बनाए गए सलमा डैम पर तालिबान ने हमला किया है। लेकिन सरकार ने कहा है कि इस हमले को अफगान सेना ने विफल कर दिया है। सरकार ने बताया है कि इस हमले में तालिबान के कई आतंकी हताहत हुए हैं और तालिबान का बहुत नुकसान हुआ है। अफगान सेना के जवाबी हमले के बाद आतंकी इलाके से भाग गए हैं।

अफगानिस्तान रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता फवाद अमान ने एक ट्वीट में बताया कि तालिबान आतंकियों ने 3 अगस्त की रात भारत-अफगानिस्तान फ्रेंडशिप डैम के नाम से मशहूर सलमा डैम पर हमले की कोशिश की। उनका यह हमला विफल रहा है। अच्छी बात ये है कि अफगान सेना के जवाबी हमले के बाद आतंकी भाग गए हैं। इस हमले में तालिबान का खासा नुकसान हुआ है।

जुलाई महीने में भी तालिबानियों ने सलमा डैम को उड़ाने की कोशिश की थी। तालिबान ने डैम पर रॉकेट से निशाना बनाया था लेकिन रॉकेट डैम के नज़दीक गिरे थे और डैम को कोई नुकसान नहीं हुआ था।

हेरात के चेशते शरीफ जिले में सलमा बांध अफगानिस्तान के सबसे बड़े बांधों में से एक है। इस डैम से इलाके के हजारों परिवारों को सिंचाई का पानी और बिजली मिलती है। सलमा बांध की जल भंडारण क्षमता 640 मिलियन क्यूबिक मीटर है। सलमा डैम हालिया सालों में अफगानिस्तान में भारत की सबसे महंगी परियोजनाओं में से रही है।