अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद तालिबानी लड़ाके फिर से क्रूरता पर उतर आए हैं। काबुल न्यूज के मुताबिक, देश छोड़ने के लिए काबुल एयरपोर्ट पहुंच रहे लोगों को तालिबान के लड़ाके अंदर जाने नहीं दे रहे। उनपर धारदार हथियार से वार किया जा रहा है। कोड़े बरसाए जा रहे हैं। इस बीच काबुल एयरपोर्ट पर फिर से फायरिंग की भी खबर है।

हालांकि, बताया जा रहा है कि ये फायरिंग भीड़ को कंट्रोल करने के लिए अमेरिकी सैनिकों ने की है। फायरिंग में किसी के मारे जाने या घायल होने की सूचना नहीं है।

बुधवार को भी तालिबान के लड़ाकों ने देश छोड़ने के इरादे से काबुल हवाईअड्डे आने वाली महिलाओं और बच्चों पर नुकीले-धारदार हथियारों से वार किया था। तालिबानी लड़ाकों ने एयरपोर्ट से भीड़ को वापस भेजने के लिए फायरिंग भी की थी। लॉस एंजिलिस टाइम्स के रिपोर्टर मार्कस यैम ने ट्विटर पर कुछ तस्वीरें ट्वीट की हैं और दावा किया है कि तालिबानियों के हमले में कई लोग घायल हुए हैं।

इससे पहले तालिबानियों ने अफगानी सेना के 4 कमांडर्स को कंधार के एक स्टेडियम में भीड़ के सामने मौत के घाट उतार दिया। टोलो न्यूज के मुताबिक ये घटना 15 अगस्त की है। इन कमांडर्स ने 13 अगस्त को तालिबान के सामने सरेंडर किया था।

तालिबान समर्थकों ने कंधार में ही शाह वली कोट के पुलिस प्रमुख पाचा खान को भी मार दिया है। तालिबान समर्थकों का कहना था कि पाचा खान एक खूंखार कमांडर था जो तालिबान लड़ाकों के नाखून निकाल लेता था। तालिबान ने इन्हें आम माफी की घोषणा करने से पहले मारा है।