आर्थिक संकट से घिरे अफगानिस्तान (Afganistan) के कार्यवाहक विदेश मंत्री आमिर खान मुत्ताकी (Aamir Khan Muttaki) ने अमेरिकी कांग्रेस को एक खुला पत्र लिखा है, जिसमें अमेरिका से अफगानिस्तान की संपत्ति को अनफ्रीज (release Afghan assets) (फ्रीज या जब्त की गई संपत्ति को बहाल करना) करने का आह्वान किया गया है। मंत्रालय ने बुधवार को एक बयान में इसकी पुष्टि की।

बयान में मुत्ताकी के हवाले से कहा गया है, इस तथ्य के बावजूद कि फरवरी 2020 में दोहा समझौते (doha agreement) पर हस्ताक्षर के बाद, हम अब खुद को एक दूसरे के साथ सीधे संघर्ष में नहीं पाते हैं और न ही हम एक सैन्य विरोधी हैं, हमारी संपत्ति को फ्रीज करने के पीछे क्या तर्क हो सकता है? उन्होंने कहा, ऐसे समय में जब हमारे पास सकारात्मक संबंधों के लिए एक उत्कृष्ट अवसर है, प्रतिबंधों और दबाव के विकल्प तक पहुंचने से हमारे संबंधों को बेहतर बनाने में मदद नहीं मिल सकती है।

मुत्ताकी ने आगे कहा कि अगस्त के मध्य में तालिबान के अधिग्रहण के बाद से अफगान अर्थव्यवस्था (afghan economy) को अफगानिस्तान के केंद्रीय बैंक से संबंधित संपत्ति में 9 अरब डॉलर से अधिक की अमेरिकी फ्रीजिंग के साथ-साथ विश्व बैंक (World Bank) और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) (IMF) द्वारा धन में ठहराव का सामना करना पड़ा है। 

मुत्ताकी (Aamir Khan Muttaki) ने कहा, विश्वास कायम करने के लिए दोनों पक्षों की ओर से सकारात्मक कदम उठाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान को चिंता है कि मौजूदा स्थिति में कोई बदलाव नहीं होने से अफगान लोगों को अधिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा और देश क्षेत्र और दुनिया में बड़े पैमाने पर प्रवास का स्रोत बन जाएगा, जो दुनिया के लिए और अधिक मानवीय और आर्थिक समस्याएं पैदा करेगा।