हफ्तों तक चले संघर्ष के बाद आखिरकार तालिबान ने अफगानिस्तान पर शासन हासिल कर लिया है। राजधानी काबुल तक पहुंचने के बाद अब इस कट्टर इस्लामिक संगठन के हाथ में सत्ता आने का आधिकारिक ऐलान करना ही बाकी बचा हुआ है। वर्तमान राष्ट्रपति अशरफ गनी शांतिपूर्ण तरीके से तालिबान के हाथ में सत्ता सौंपने के लिए तैयार हैं। ऐसे में बताया जा रहा है कि अली अहमद जलाली को अफगानिस्तान का अंतरिम राष्ट्रपति बनाया जा सकता है।


अल अरबिया की रिपोर्ट के मुताबिक शांति वार्ता के लिए दोहा में मौजूद मुल्ला बरादर काबुल के लिए रवाना हो रहे हैं। तालिबान ने सत्ता के ‘शांतिपूर्ण आत्मसमर्पण’ का आह्वान किया है। वहीं अफगानी राष्ट्रपति अशरफ गनी ने पद छोड़ने के संकेत दिये हैं। अफगानिस्तान के कार्यवाहक आंतरिक मंत्री अब्दुल सत्तार मिर्जाकावल ने एक वीडियो संदेश में अंतरिम सरकार के गठन पर बातचीत की पुष्टि की है। इस बीच तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि उनके समूह का बलपूर्वक अथवा युद्ध के जरिए काबुल में प्रवेश करने का कोई इरादा नहीं है, लेकिन इसके लिए वह बातचीत कर रहा है। उन्होंने नागरिकों को आश्वस्त किया है कि लोगों के जीवन, सम्मान और संपत्ति की रक्षा की जायेगी।