चीन से बढ़ते तनाव के बीच ताइवान की सेना ने जवाबी कार्रवाई के तहत लाइव फायर ड्रिल आयोजित किया है। चीन की जमीन के पास यह लाइव फायर ड्रिल उस समय किया गया जब दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है। ताइवान की सेना ने इस दौरान मारक हथियारों को फायर कर चीन को सीधी चुनौती दी। उधर, चीनी सेना भी ताइवान से लगी सीमा पर युद्धाभ्यास में जुटी है। 

जानकारी के अनुसार यह युद्धाभ्यास चीन सीमा के करीब लिंनचियांग काउंटी के मात्सू डिफेंस कमांड के अंतर्गत किया गया। इस दौरान सैनिकों ने अपने हथियारों को फायर कर एंटी लैंडिंग तैयारियों को मजबूत किया। ताइवानी सेना ने दुश्मनों के जहाजों को निशाना बनाने के लिए 240 एमएम के एम-1 हॉवित्जर गन का इस्तेमाल किया। जानकारी के मुताबिक एंटी लैंडिंग युद्धाभ्यास के दौरान जमीन से समुद्र में दुश्मनों के लैंडिंग क्राफ्ट, होवरक्राफ्ट और जंगी जहाजों को टार्गेट किया जाता है। इन दिनों चीन बार-बार ताइवान पर हमले की धमकी दे रहा है। अगर चीनी सेना ताइवान के किसी इलाके में हमला करने की कोशिश करती है तो उसे लैंडिंग क्राफ्ट की मदद लेनी होगी। इसलिए ताइवान ने एंटी लैंडिंग एक्सरसाइज को पूरा कर चीन को खुली चेतावनी दी है। 

चीन का सरकारी मीडिया भी बार-बार ताइवान को हमले व युद्ध की धमकी दे रहा है। बताया जा रहा है कि चीन ने पिछले दिनों करीब 40 बार ताइवान की सीमा के पास अपने लड़ाकू विमान भेजे। इसके जवाब में ताइवान ने भी चीन को मुंह तोड़ जवाब देने के लिए अपनी तैयारी तेज कर दी है। ताइवान की राष्‍ट्रपति ने सेना की तैयारियों का जायजा लिया और ताइवानी एयर फोर्स ने चीन पर हमले का अभ्‍यास किया है।ताइवान के रक्षा मंत्रालय के हवाले से बताया जा रहा है कि चीन ताइवान के खिलाफ फाइटर जेट और बमवर्षक विमान भेज रहा है। इससे पूरे दक्षिण चीन सागर में तनाव बढ़ गया है। चीन की इस हरकत पर ताइवान की राष्‍ट्रपति त्‍साई इंग वेन ने कहा कि चीन पूर्वी एशिया में तनाव भडक़ाने की कोशिश कर रहा है। उनके अनुसार चीन की हालिया सैन्‍य कार्रवाई स्‍पष्‍ट रूप से धमकी है।