भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद और बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को कहा कि पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में नकार दिए जाने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी कोरोना पीड़ितों की सेवा के बजाय लाश पर राजनीति करने का मौका खोज रहे हैं। 

मोदी ने सोशल नेटवर्किंग साइट पर ट्वीट कर कहा कि पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में भी जिस कांग्रेस को जनता ने नकार दिया और जो दल लोकसभा चुनाव में हार के बाद दो साल से नया पूर्णकालिक राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं खोज पाया, वह कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में पीड़ितों की सेवा के लिए नहीं, केवल लाश पर राजनीति के मौके खोजने में लगा है। भाजपा नेता ने कहा कि राहुल गांधी को पश्चिम बंगाल में हिंसा का नंगा नाच और किसान के नाम पर जारी प्रायोजित आंदोलन में शामिल महिला से सामूहिक बलात्कार दिखाई नहीं देता। 

कांग्रेस को प्रधानमंत्री पर टिप्पणी करने से पहले अपना चश्मा बदलना चाहिए। मोदी ने कहा कि असम में भाजपा सत्ता में लौटी, पश्चिम बंगाल में पार्टी ने 3 के अंक से लंबी छलांग लगा कर 77 विधायकों के साथ मुख्य विपक्षी दल का दर्जा हासिल किया, वहां लंबे समय तक सत्ता में रहे कांग्रेस तथा वाम दलों का सफाया हो गया और पुडुचेरी में भाजपा एनडीए सरकार में शामिल हुई। उन्होंने कहा कि यदि  राहुल गांधी का चश्मा ठीक होता, तो वे कम से कम असम और पुडुचेरी के नये मुख्यमंत्रियों को बधाई देते और बंगाल में कांग्रेस के सफाये पर दुखी होने के बजाय तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की वापसी पर खुश नहीं होते। भाजपा नेता ने असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा और पश्चिम बंगाल भाजपा विधायक दल के नेता सुवेंदु अधिकारी को फोन कर बधाई दी और बिहार की जनता की ओर से आशा प्रकट किया कि इनके नेतृत्व में विकास की निरंतरता बनी रहेगी। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल को को ऐसा प्रबल विपक्ष मिला है , जो मां, माटी ,मानुष को हिंसा, भ्रष्टाचार और धार्मिक पक्षपात करने वाली ममता सरकार से बचाने के लिए संघर्ष करेगा।